• Thu. Oct 21st, 2021

Bhupinder Singh Hooda की अगुवाई में कांग्रेसी विधायक राजभवन पहुंचकर ज्ञापन सौंपा और विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की मांग की।

Byadmin

Sep 18, 2020

राजभवन में कांग्रेसी विधायकों की राज्यपाल से मुलाकात

कांग्रेस की मांग विधानसभा का विशेष सत्र बुलाया जाए ।

आज प्रदेश के किसानों पर 3 काले क़ानूनों का संकट मंडरा रहा है। इसलिए ज़रूरी है कि सभी पार्टियां किसानहित में एकसाथ इसके ख़िलाफ़ आवाज़ उठाएं। पंजाब की तर्ज़ पर विधानसभा का सत्र बुलाकर इन तीनों क़ानूनों को सिरे से खारिज किया जाए। आज सभी विधायकों के साथ राजभवन पहुंचकर ज्ञापन सौंपा और विधानसभा का विशेष सत्र बुलाने की मांग की।

विधानसभा में एक प्रस्ताव पारित किया जाए कि कृषि और मंडी व्यवस्था राज्य का मामला है। इसको ध्वस्त करने वाले और बिना MSP की गारंटी के ये क़ानून राज्य को मंज़ूर नहीं हैं। साथ ही विधानसभा में एक बिल लाया जाए, जिसमें किसानों को स्वामीनाथन के सी2 फार्मूले के तहत MSP की गारंटी दी जाए। इसमें प्रावधान जोड़ा जाए कि अगर कोई प्राइवेट एजेंसी MSP से कम पर किसान की फसल ख़रीदती है तो उसे क़ानूनी सज़ा दी जाएगी। अगर सरकार ऐसा नहीं करती तो कांग्रेस सड़क से लेकर सदन तक हर मंच पर इसका विरोध करेगी और सरकार को क़ानून वापिस लेने पर मजबूर कर देगी। अगर फिर भी सरकार अपनी ज़िद्द पर अड़ रही तो प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनते ही इन काले क़ानूनों को ख़त्म किया जाएगा।

मानसून सत्र में कांग्रेस ने किसान विरोधी 3 अध्यादेशों समेत कई मुद्दों पर चर्चा के लिए स्थगन और ध्यानाकर्षण प्रस्ताव दिए थे। लेकिन सरकार ने मुख्यमंत्री, स्पीकर और कई विधायकों के संक्रमित होने का हवाला देते हुए चर्चा से इंकार कर दिया था। इसलिए कांग्रेस की मांग है कि राज्यपाल इन तमाम मुद्दों पर चर्चा के लिए अब विधानसभा का विशेष सत्र बुलाएं। क्योंकि अब मुख्यमंत्री, स्पीकर, कृषि मंत्री और सभी विधायक स्वस्थ हैं। प्रदेश की जनता और विपक्ष सरकार से कई मुद्दों पर जवाब चाहते हैं। इसके लिए ज़रूर है कि सदन बैठे और सरकार सभी सवालों के जवाब दे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *