• Tue. Aug 16th, 2022

3 स्थानीय भाजपा नेता बन सकते हैं नगर निगम में मनोनीत सदस्य – हेमंत

Byadmin

Jan 2, 2021

अम्बाला शहर – अम्बाला नगर निगम के बीते रविवार 27 दिसंबर को   हुए  चुनावो में  निगम के 20 वार्डो में हालांकि भाजपा के केवल 8 ही  नगर निगम सदस्य निर्वाचित हुए हैं जिन्हे आम भाषा में पार्षद कहा जाता है हालांकि नगर निगम कानून में पार्षद/कौंसलर/कॉर्पोरेटर आदि कोई  शब्द नहीं है.  हालांकि भाजपा के दो स्थानीय  निर्वाचित प्रतिनिधि  भी अम्बाला नगर निगम के पदेन (अपने पद के कारण ) सदस्य हैं जबकि पार्टी तीन अन्य व्यक्तियों को भी अम्बाला नगर निगम सदस्य बना सकती है.  

 शहर निवासी हाई कोर्ट के एडवोकेट हेमंत कुमार ने बताया कि न केवल हरियाणा नगर निगम कानून,1994 के अंतर्गत  बल्कि भारत के संविधान के अनुच्छेद 243 अनुसार भी स्थानीय सांसद और स्थानीय विधायक भी नगर निगम के पदेन सदस्य होते हैं.
बीते वर्ष 19 मार्च 2020  को हरियाणा के शहरी स्थानीय निकाय विभाग द्वारा जारी एक नोटिफिकेशन  में न केवल अम्बाला शहर के भाजपा विधायक असीम गोयल बल्कि अम्बाला कैंट के भाजपा विधायक और प्रदेश के  कैबिनेट  मंत्री अनिल विज का नाम भी अम्बाला नगर निगम के पदेन सदस्यों  की सूची में शामिल है हालांकि विज अम्बाला सदर नगर परिषद के भी पदेन सदस्य है जो कि हालांकि अभी गठित नहीं हुई है. इसी प्रकार 24 जुलाई 2019 को विभाग द्वारा जारी नोटिफिकेशन से अम्बाला लोक सभा सीट से  सांसद रतन लाल कटारिया को भी अम्बाला नगर निगम का पदेन सदस्य बनाया गया था.

 हेमंत ने आगे  बताया कि इसी प्रकार हरियाणा नगर निगम कानून धारा 4 (3 ) के अंतर्गत राज्य सरकार अधिकतम तीन व्यक्तियों को, जो नगर निकाय विषय में विशेष ज्ञान और अनुभव रखते हो, उन्हें नगर निगम का सदस्य मनोनीत कर सकती है. इसी तर्ज पर   नगर परिषद में ही अधिकतम तीन और नगर पालिका में अधिकतम दो मनोनीत सदस्य लगाने का प्रावधान है. आम तौर पर प्रदेश में सत्ताधारी पार्टी किसी विशेषज्ञों के स्थान पर स्थानीय पार्टी नेताओ और कार्यकर्ताओ को ही नगर निगम आदि का मनोनीत सदस्य (पार्षद ) नियुक्त करती है.  पिछली अम्बाला नगर निगम  में हालांकि आम चुनाव जून, 2013 में हुड्डा सरकार दौरान  करवाए गए थे और उसकी पहली बैठक जुलाई, 2013 में हुई परन्तु इसके करीब तीन वर्ष बाद मई, 2016 में भाजपा सरकार  ने तीन भाजपा  के स्थानीय नेताओ को  नगर निगम अम्बाला में मनोनीत सदस्य  लगाया था  जिसमे से दो  – राजेश गोयल और कृष्ण कुमार आनंद अम्बाला शहर से और एक सतपाल ढल अम्बाला कैंट से थे.

हेमंत ने बताया की हरियाणा नगर निगम कानून, 1994 के मौजूदा प्रावधानों के अनुसार न तो मनोनीत सदस्य  और न ही  स्थानीय विधायक और लोकसभा सांसद नगर निगम की किसी भी बैठक में अपने मताधिकार का प्रयोग  कर  सकता है. उन्होंने बताया कि भारत के  संविधान के अनुसार केवल मनोनीत पार्षद ही वोट नहीं दे सकते. परन्तु हरियाणा में  नगर निगमों, नगर परिषदों और नगर पालिकाओं तींनो की बैठकों में  स्थानीय विधायक और सांसद को भी वोट डालने  के अधिकार  से  वंचित कर रखा है जो कि उपयुक्त नहीं है.      

One thought on “3 स्थानीय भाजपा नेता बन सकते हैं नगर निगम में मनोनीत सदस्य – हेमंत”

Leave a Reply

Your email address will not be published.