• Wed. Jun 29th, 2022

हरियाणा के लोकप्रिय कैबिनेट मंत्री अनिल विज ने चुनावी राजनीति में पूरे किये 32 वर्ष

Byadmin

May 27, 2022


27 मई 1990 को  अम्बाला कैंट से उपचुनाव जीत  पहली बार बने थे विधायक — हेमंत

चंडीगढ़ –  आज से ठीक  32 वर्ष पूर्व 27 मई 1990 को तत्कालीन सातवीं हरियाणा विधानसभा की दो रिक्त सीटों के लिए हुए उपचुनाव के नतीजे घोषित किये गए थे जिसमें  अम्बाला जिले के  कैंट विधानसभा हलके  से भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के टिकट पर  अनिल कुमार (विज) पहली  बार चुनाव जीतकर  विधायक के तौर पर निर्वाचित हुए थे. वहीं  सिरसा जिले की तत्कालीन  दरबा कलां सीट  से जनता दल के टिकट पर प्रदेश के  पूर्व मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला विजयी होकर हालांकि  दूसरी बार विधायक बने थे.

पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट के एडवोकेट हेमंत कुमार ने आधिकारिक आंकड़ों का अध्ययन करने के  बाद बताया कि अम्बाला कैंट में मई, 1990 में हुए उपरोक्त उपचुनाव में अम्बाला ज़िले के तत्कालीन डीसी (उपायुक्त ) एस पी लाम्बा, आईएएस को रिटर्निंग अफसर (निर्वाचन अधिकारी) बनाया गया था जिन्होंने उपचुनाव में विधायक के तौर पर निर्वाचित  अनिल विज को इलेक्शन सर्टिफिकेट प्रदान किया था.

हेमंत ने आगे बताया कि हालांकि जून, 1987 में सातवीं हरियाणा विधानसभा आम चुनावों में अम्बाला कैंट विधानसभा सीट से भाजपा की वरिष्ठ नेत्री एवं दिवंगत सुषमा स्वराज विजयी होकर  दूसरी बार कैंट से  विधायक बनी थी जिसके बाद वह प्रदेश में  तत्कालीन देवी लाल के नेतृत्व वाली  लोक दल- भाजपा गठबंधन  सरकार में कैबिनेट मंत्री भी बनी परन्तु चूँकि  अप्रैल, 1990 में सुषमा हरियाणा से राज्य सभा के लिए निर्वाचित हो गयी थीं, इसलिए उन्होंने अम्बाला कैंट सीट के विधायक पद   से त्यागपत्र दे दिया था जिसके कारण इस सीट पर उपचुनाव करवाना पड़ा था.

उस  उपचुनाव में भाजपा के टिकट पर अनिल विज ने चुनाव लड़ा और विजयी हुए जिसमें उन्होंने  कांग्रेस के राम दास धमीजा एवं निर्दलयी अर्जुन लाल कालड़ा को पराजित किया था. उस समय विज की आयु मात्र 37 वर्ष थी एवं उन्होंने स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया में क्लेरिकल पद की नौकरी छोड़कर वह  उपचुनाव लड़ा था. हालांकि उसके   एक वर्ष से  भी  पूर्व अप्रैल,1991 में सातवीं  हरियाणा विधानसभा समयपूर्व ही भंग कर दी गयी थी  क्योंकि तत्कालीन मुख्यमंत्री ओम प्रकाश चौटाला  तत्कालीन राज्यपाल धनिक लाल मंडल के निर्देशानुसार सदन में उनकी  सरकार का बहुमत साबित नहीं कर पाए थे एवं राज्यपाल की सिफारिश पर तत्कालीन केंद्र सरकार ने हरियाणा सरकार को अल्पमत में होने कारण बर्खास्त कर दिया था  जिसके बाद आगामी कुछ माह तक प्रदेश में राष्ट्रपति शासन लगा दिया गया था.  

बहरहाल, हेमंत ने बताया कि अढ़ाई वर्ष पूर्व  अक्तूबर, 2019 में मौजूदा 14 वीं हरियाणा विधानसभा आम चुनावों में विज लगातार तीसरी बार  और कुल छठी  बार  अम्बाला कैंट सीट से विजयी होकर विधायक बने थे.  आज से साढ़े 55 वर्ष पूर्व  संयुक्त पंजाब से अलग होने के बाद जब 1  नवंबर, 1966 को  हरियाणा देश का नया राज्य बना, तो प्रदेश में अब   तक हुए  13  विधानसभा चुनावो  में अम्बाला कैंट  हलके में 7  बार भाजपा ( जनता पार्टी और भारतीय जन  संघ मिलाकर) और 5 बार कांग्रेस पार्टी ने विजय हासिल की है जबकि दो बार यहाँ से  निर्दलयी उम्मीदवार जीता है और दोनों बार वह निर्दलयी प्रत्याशी विज ही थे.

वर्ष 1991 में आठवी हरियाणा विधानसभा चुनावों में अम्बाला कैंट सीट से विज हालांकि कांग्रेस के बृज आनंद से हार गये थे जिसके बाद  1995 के करीब  विज ने  भाजपा छोड़ दी एवं वर्ष 1996 और 2000 लगातार दो हरियाणा   विधानसभा आम चुनावों में निर्दलयी के तौर पर लड़ते हुए  लगातार दो बार विधायक बने. हालांकि वर्ष 2005 विधानसभा आम चुनावो में कांग्रेसी प्रत्याशी एडवोकेट देवेंद्र  बंसल ने विज  को मात्र 615 वोटो से पराजित कर दिया. इसके बाद वर्ष 2007 में विज ने  विकास परिषद के नाम से अपनी अलग राजनीति पार्टी भारतीय चुनाव आयोग से पंजीकृत करवाई हालांकि 2009 हरियाणा विधानसभा आम चुनावों से ठीक पहले वह फिर भाजपा में शामिल हो गए एवं 2009, 2014 और 2019 विधानसभा चुनावों में लगातार तीन बार अर्थात हैट्रिक लगातार अम्बाला कैंट से विधायक निर्वाचित हुए.  

हेमंत ने बताया कि विज अक्टूबर, 2014 से आज तक  अर्थात गत  साढ़े सात वर्षो से प्रदेश की मनोहर लाल खट्टर  के नेतृत्व वाली  सरकार में कैबिनेट मंत्री हैं और उनकी  प्रदेश के सबसे लोकप्रिय एवं धाकड़ मंत्री के तौर पर अपनी  विशिष्ट पहचान है  जो  आम जनता की शिकायतों की सुनवाई करते हुए बड़े आला अधिकारियों की खड़े खड़े क्लास लगा लेते हैं और अगर उन्हें   प्रथम दृष्टि  ऐसा प्रतीत हो किसी सरकारी अधिकारी या  कर्मचारी ने  ड्यूटी में कोताई बरती है अथवा उसने  रिश्वत की मांग की  या  वह भ्रष्टाचार में लिप्त है, तो विज उसे  तत्काल मौके पर ही  सस्पेंड (निलंबित ) करने का  आदेश दे देते हैं. विज की  तुरंत एक्शन (कार्रवाई ) लेने वाली कार्यशैली  कारण ही   उनके  साप्ताहिक जनता दरबार में जिला अम्बाला से ही नहीं बल्कि  प्रदेश भर से हज़ारों  फरियादी सरकारी और प्रशासनिक तंत्र के विरूद्ध अपनी  शिकायतें और समस्याओं के निवारण के लिए आते हैं. 

Leave a Reply

Your email address will not be published.