• Tue. Jan 18th, 2022

स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण एक महत्वपूर्ण व्यवस्था।

Byadmin

Jul 9, 2021

अम्बाला, 9 जुलाई:- उपायुक्त विक्रम सिंह ने आज अपने कार्यालय में स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण फेस-दो के अतंगर्त भारत सरकार के उपक्रम गोबर धन योजना के तहत गांव सुल्लर में स्थापित श्री कृष्ण नंदी गौधाम सेव समिति गोशाला में पायलट प्रोजैक्ट के रूप में गोबर धन बायोगैस प्लांट लगाए जाने को लेकर सीईओ जिला परिषद, कृषि विभाग, पशुपालन विभाग, पंचायती राज विभाग तथा प्रोजैक्ट को लगाने वाली सम्बन्धित एंजैसी के प्रतिनिधियों की एक बैठक लेकर उनसे चर्चा की।  
बैठक के दौरान उन्होंने प्रोजैक्ट को लेकर किए जाने वाले कार्यों बारे विस्तार से चर्चा की। बैठक मे प्रैंसटेशन के माध्यम से गोबर धन प्रोजैक्ट की प्रक्रिया को भी दिखाया गया तथा संबधित प्रतिनिधि  अमित कादियान ने इस परियोजना बारे विस्तार से जानकारी दी। उपायुक्त ने बताया कि गोबर धान योजना (ग्लैवनाइजिंग ओर्गनिक बायो एग्रो रिसोर्सेज धन योजना) के तहत पशुओं के अपशिष्ट, पत्तियों और अन्य कचरे को कम्पेास्ट, बायो सीएनजी में बदलने के लिए इस योजना को आरम्भ किया गया है। इस योजना को लेकर गांव सुल्लर में प्लांट को लगाये जाने के लेकर सम्बन्धित अधिकारियों के साथ चर्चा की गई है।  उन्होंने यह भी बताया कि इस योजना के माध्यम से बनाई गई बायोगैस से खाना पकाने और लाईटिंग के लिए र्इंधन प्राप्त होगा तथा स्वच्छता बनाये रखने में भी योजना लाभकारी साबित होगी। उन्होंने बैठक में सुल्लर ग्राम पंचायत की गौशाला से पशुओ के गौबर की उपलब्धता व उसके संभावी उपयोग से पैदा होने वाली गौबर गैस के वितरण को लेकर भी चर्चा की। सीईओ जिला परिषद अनुराग ढालिया ने उपायुक्त को अवगत करवाते हुए बताया कि गांव सुल्लर में इस प्लांट को लगाया जा सकता है। उन्होंने यह भी बताया कि सम्बन्धित एंजैसी द्वारा यहां का सर्वे भी किया गया है। उन्होने बताया कि सुल्लर गांव की गौशाला में मौजूद पशुओं व गांववासियों के मौजूद पशुओं के गोबर की उपलब्धता एवं उसके प्रोजैक्ट हेतू योगदान को देखते हुए पायलट प्रोजैक्ट की कमेस्टी 400 सीयूएम निर्धारित की गई है जिससे 150 घरों को सस्ती दरों पर बायोगैस उपलब्ध करवाये जाने की योजना है। इस प्रोजैक्ट के निर्माण में लगभग 74.75 लाख रूपये की लागत लगेगी तथा भविष्य में गांव के सभी घरों को इसके तहत गैस उपलब्ध करवाया जायेगा। उपायुक्त ने बैठक में अधिकारियों को कहा कि वे इस विषय को लेकर बेहतर समन्वय के साथ कार्य करें ताकि इस दिशा में आगे बढ़ा जा सके।
बैठक में सीईओ जिला परिषद अनुराग ढालिया, डीडीपीओ रेणू जैन, पशुपालन विभाग के उप निदेशक डा0 प्रेम, सुल्लर गांव से हरकेश सुल्लर, सहायक कृषि अभियंता ओपी महिवाल के साथ-साथ अन्य अधिकारीगण मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *