• Tue. Aug 9th, 2022

सोहन लाल डी.ए.वी. शिक्षा महाविद्यालय अंबाला शहर में राज्य स्तरीय गीता महोत्सव पर एक दिवसीय सेमिनार का आयोजन।गीता जीवन जीने की कला:- गौरी मिड्डा।

Byadmin

Dec 13, 2021

सोहन लाल डी.ए.वी. शिक्षा महाविद्यालय अंबाला शहर में राज्य स्तरीय गीता महोत्सव पर एक दिवसीय सेमिनार का आयोजन।
गीता जीवन जीने की कला:- गौरी मिड्डा।
अम्बाला, 13 दिसम्बर:- सोहन लाल डी.ए.वी. शिक्षा महाविद्यालय अंबाला शहर में डॉ0 नीलम लूथरा के नेतृत्व में आधुनिक जीवन में श्रीमदभगवदगीता की प्रासंगिकता विषय पर एक दिवसीय सेमिनार का आयोजन किया गया। डा0 नरेंद्र कौशिक, कार्यवाहक प्राचार्य ने सभी अतिथियों का माला अर्पण द्वारा स्वागत किया और सभी अतिथियों का परिचय छात्राध्यापकों से करवाया, इसके साथ ही श्रीमदभगवदगीता पर अपनी तत्क्षण रचित कविता सुना कर सबका मन मोह लिया।
इस कार्यक्रम में श्रीमती गौरी मिड्डा ने मुख्य अतिथि के रूप में शिरकत की। ए.डी. गांधी, समाजसेवी एवं श्रीमदभगवदगीता वक्ता और पाठक, विशिष्ट अतिथि डॉ0 सुधीर मेहता प्लास्टिक सर्जन, डॉ0 वी.के. शर्मा प्रसिद्ध समाज सेवक एवं रोटरी क्लब अंबाला की शान, जी. के. चोपड़ा, डी.ए.वी. प्रबंधक कमेटी और शिक्षा विभाग से जिला शिक्षा अधिकारी सुरेश कुमार, डीआईपीआरओ धर्मेन्द्र कुमार तथा प्रधानाचार्य डॉ0 अवधेश पांडे ने अपनी उपस्थिति देकर कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई । श्री गीता सत्संग ट्रस्ट से प्रभाश दुआ, श्याम सुंदर शर्मा, गुरचरण सिंह, सत्संग भवन के श्रद्धालु जय गोपाल अग्रवाल, श्रीमती विजया, फकीरचंद भी कार्यक्रम में उपस्थिति दर्ज की।
मुख्य अतिथि गौरी मिडडा ने इस मौके पर सैमिनार में उपस्थित प्रतिभागियों एवं विद्यार्थियों को स सम्बोधित करते हुए कहा कि गीता जीवन का सार है, मनुष्य रूपी जीवन मे जो भी व्यक्ति की समस्या है उसका समाधान गीता है, गीता जीवन जीने की कला है। उन्होंने इस मौके पर विद्यार्थियों की गीता की महत्वता बारे भी विस्तार से जानकारी दी और वक्ताओं द्वारा गीता सैमिनार के माध्यम से गीता पर जो प्रकाश डाला है उसकी भी सराहना की। मंच का संचालन डॉ0 सतनाम कौर ने किया। कार्यक्रम का आरंभ श्रीमद भगवत गीता जी की आरती से करवाया गया। बी.एड. प्रथम वर्ष के छात्राध्यापकों द्वारा गीता भजन, श्लोक उच्चारण  इत्यादि का कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया।
डॉ0 नीलम लूथरा ने श्रीमदभगवदगीता की पृष्ठ भूमि और श्री गीता जी के उपदेश के मुख्य बिंदु प्रस्तुत किए व सभी समस्याओं का समाधान श्री गीता जी की वाणी को बताया। डॉ0 सुधीर मेहता ने कर्म सिद्धांत और निष्काम कर्म से छात्र अध्यापकों को निरंतर कर्म में लीन रहने का उपदेश दिया। ए.डी. गांधी ने अपने व्याख्यान में मानव जीवन के महत्व और श्रीमदभगवदगीता से जीवन को सार्थक बनाने का मंत्र दिया। श्रीमती गौरी मिड्ढा ने अपने व्याख्यान में गीता को प्रतिदिन पढऩे व विश्वास से निरंतर कर्म करते हुए अपने लक्ष्य की प्राप्ति पर बल दिया। जय गोपाल ने श्री गीता जी के श्लोक सुना कर लोगों को गीता पाठ करने के लिए प्रोत्साहित किया।
  इस अवसर पर विभिन्न सरकारी विद्यालय के विद्यार्थियों द्वारा श्रीमदभगवदगीता पर प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में भाग लिया गया। अंत में सभी विशिष्ट अतिथियों को स्मृतिचिन्ह देकर सम्मानित किया गया। डॉ0 नीलम लूथरा ने कार्यक्रम में भागीदारी करने वाले सभी श्रोताओं और उपस्थित विद्वानों का धन्यवाद किया। इस अवसर पर महाविद्यालय का समस्त शैक्षणिक और गैर शैक्षणिक स्टाफ और विभिन्न विद्यालयों के प्राचार्य, स्टाफ एवं बच्चे भी उपस्थित रहे।

2 thoughts on “सोहन लाल डी.ए.वी. शिक्षा महाविद्यालय अंबाला शहर में राज्य स्तरीय गीता महोत्सव पर एक दिवसीय सेमिनार का आयोजन।गीता जीवन जीने की कला:- गौरी मिड्डा।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.