• Sun. Oct 17th, 2021

फसल अवशेषों को खेतों में मिलाने व अन्य प्रबन्धन के लिए किसानों के लिए सरकार की तरफ से सब्सिडी का प्रावधान।

Byadmin

Sep 16, 2020


अम्बाला, 16 सितम्बर:- कृषि एवं किसान कल्याण विभाग द्वारा एनजीटी (नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल) के निर्देशानुसार फसल अवशेष प्रबन्धन स्कीम 2020-21 के तहत फसल अवशेषों को खेतों में मिलाने व अन्य प्रबन्धन के लिए किसानों को सब्सिडी मुहैया करवाई जाएगी। सहायक कृषि अभियन्ता ने बताया कि 9 कृषि यंत्रों पर अनुदान देने हेतु किसानों से दिनांक 11 अगस्त से 21 अगस्त तक   www.agriharyanacrm.com    पर ऑनलाइन आवेदन मांगे गए थे। जिसके लिए कुल 85 ऑनलाइन और दिनांक 1 सितम्बर से 7 सितम्बर तक 36 ऑफलाइन आवेदन प्राप्त हुए है। जिसमे रेड जोन तथा यैलो जोन में 61 आवेदन प्राप्त हुए है जिस गांव में सीएचसी उपलब्ध नहीं थी उनका चयन प्राथमिकता के आधार पर ऑनलाइन प्रक्रिया द्वारा किया गया।
जिले में सामान्य श्रेणी का लक्ष्य 20 तथा अनुसूचित जाति के किसान समूह के लिए 6 का लक्ष्य के अनुसार लाभार्थियों का चयन के लिए किया गया। जिससे सामान्य श्रेणी के 20 तथा अनुसूचित जाति के केवल एक आवेदन का चयन ऑनलाइन ड्रॉ के माध्यम से 16 सितम्बर को सुबह 10.30 बजे एनआईसी सेन्टर विडियो कॉन्फ्रेंसिंग हॉल में ऑनलाइन करवाया गया। ड्रॉ का आयोजन सीईओ जिला परिषद अनुराग ढालिया, शेखर कुमार जिंदल, कृषि विज्ञान केन्द्र- डॉ देवेंदर चहल, लीड बैंक मैनेजर पंजाब नेशनल बैंक अम्बाला- संजय कुमार सूरी, प्रगतिशील किसान- गुरजंट सिंह, अवतार सिंह, अचर सिंह, हरबंस सिंह द्वारा करवाया गया । सीएचसी स्थापित करने के लिए ऑनलाइन ड्रॉ में रेड जोन और यैलो जोन को प्राथमिकता दी गयी है। ड्रॉ में चयनित लाभार्थी किसान समूह हरियाणा सरकार की अनुमोदित सूची में शामिल अपनी पसंद निर्माता कंपनी से यन्त्र खरीद सकते है। ड्रॉ की सूची कार्यालय नोटिस बोर्ड पर लगा दी गई है तथा उनको एसएमएस के द्वारा सूचित भी कर दिया जाएगा तथा 22 सितम्बर तक सभी चयनित लाभार्थियों को पात्रता पत्र दे दिया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *