• Wed. Jun 29th, 2022

प्रसिद्ध भगवान श्री परशुराम मंदिर पिपली बाजार अंबाला शहर में भगवान दत्तात्रेय की जयंती हर्षोल्लास से मनाई गई।

Byadmin

Dec 29, 2020


मन्दिर में भगवान श्री सत्यनारायण की कथा एवं हवन यज्ञ का आयोजन किया गया। भगवान दत्तात्रेय के जीवन पर प्रकाश डालते हुए जिलाध्यक्ष प्रदीप शर्मा ने कहा कि मार्गशीर्ष मास की पूर्णिमा के दिन भगवान दत्तात्रेय अवतरित हुए थे। इनको त्रिदेवों अर्थात् ब्रह्मा, विष्णु महेश का संयुक्त रूप माना जाता है। श्रद्धा भक्ति के साथ मनाई जाती है। दक्षिण भारत और महाराष्ट्र में भक्ति भाव से दत्तात्रेय जयंती को मनाया जाता है। इनमें त्रिदेवों की शक्ति समाहित है इसलिए इनकी पूजा समस्त सुख, वैभव, ऐश्वर्य प्रदान करने वाली कही गई है। इनके तीन सिर और छह भुजाएं है और इनका वाहन स्वान को बताया गया है। भगवान दत्तात्रेय जी का उपवास करने तथा पीले फल, पीली मिठाई चने की दाल, हल्दी, स्वर्ण आदि द्वारा गुरुवार के दिन  पूजन करने सभी प्रकार के सुख प्राप्त होते हैं। श्री शर्मा ने राकेश टिकैत द्वारा ब्राह्मणों के प्रति की गई अभद्र टिप्पणी और दी गई धमकी की कड़ी निंदा करते हुए कहा कि जो लोग देश में वैमनस्य की भावना से काम करके सस्ती लोकप्रियता हासिल करना चाहते हैं ऐसे लोगों का सामाजिक बहिष्कार करें। इस अवसर पर सभा के मुख्य सलाहकार मास्टर वेद प्रकाश कौशिक, मुख्य संरक्षक सुभाष शर्मा, संरक्षक जोगिंद्र पाल कौशल, पंडित पंकज डिमरी, सुरेंद्र शर्मा, राम सिंह, केशव शर्मा श्रीमती शांता कौशल मधु भृगु, पुष्पा शर्मा रूपांशी शर्मा, मधु कौशल, उषा, किरण विजय कुमारी, अंशिका शर्मा, अगम व अन्य सदस्य मौजूद थे।

11,060 thoughts on “प्रसिद्ध भगवान श्री परशुराम मंदिर पिपली बाजार अंबाला शहर में भगवान दत्तात्रेय की जयंती हर्षोल्लास से मनाई गई।”
  1. Can I just say what a relief to find someone who actually knows what theyre talking about on the internet. You definitely know how to bring an issue to light and make it important. More people need to read this and understand this side of the story. I cant believe youre not more popular because you definitely have the gift.