• Tue. Jan 18th, 2022

प्रदेश में 40 नई भूमि परीक्षण प्रयोगशालाओं का रिमोट के माध्यम से मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किया शुभारम्भ-

Byadmin

Aug 12, 2021

प्रदेश में 40 नई भूमि परीक्षण प्रयोगशालाओं का रिमोट के माध्यम से मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किया शुभारम्भ–परीक्षण प्रयोगशालाएं किसानों के लिए नई सौगात–नन्यौला और शहजादपुर की प्रयोगशालाएं भी शामिल।
अम्बाला, 12 अगस्त:- 
 हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने आज चण्डीगढ़ से ऑनलाईन प्रक्रिया के माध्यम से कृषि एवं किसान कल्याण विभाग द्वारा 40 नई भूमि परीक्षण प्रयोगशालाओं का रिमोट के माध्यम से शुभारम्भ करते हुए किसानों को इसकी सौगात देने का कार्य किया। इस मौके पर उनके साथ कृषि मंत्री जे.पी. दलाल, अतिरिक्त मुख्य सचिव डा0 सुमिता मिश्रा व निदेशक हरदीप सिंह साथ रहे। इसी के दृष्टिगत आज अम्बाला शहर एसडीएम कार्यालय के प्रथम तल पर एनआईसी रूम में अम्बाला लोकसभा सांसद रतनलाल कटारिया ने अम्बाला जिले के गांव नन्यौला अनाज मंडी में एक लघु भूमि एवं जल प्रयोगशाला का व शहजादपुर में भी एक लघु भूमि एवं जल प्रयोगशाला का उदघाटन किया। यहां पहुंचने पर उपायुक्त विक्रम सिंह ने सांसद को पर्यावरण का प्रतीक पौधा देकर उनका स्वागत किया। वहीं एसडीएम हितेष मीणा व कृषि विभाग के उप निदेशक डा0 गिरीश नागपाल ने सांसद को पुष्प गुच्छ देकर उनका अभिनंदन किया। चण्डीगढ़ से आयोजित वीसी के माध्यम से आयोजित कार्यक्रम में प्रैंजटेशन के माध्यम से हर खेत स्वस्थ यानि भूमि परीक्षण प्रयोगशालाओं द्वारा किए जा रहे कार्यों को दिखाया गया।
अम्बाला लोकसभा सांसद रतनलाल कटारिया ने इस मौके पर बताया कि कृषि एवं किसान कल्याण विभाग द्वारा प्रदेश में 40 नई भूमि प्रयोगशालाओं का उदघाटन कर उन्हें सौगात देने का काम किया गया है। इन प्रयोगशालाओं से किसानों को काफी लाभ मिलेगा। उन्होंने बताया कि इन प्रयोगशालाओं के तहत अम्बाला में भी दो नई प्रयोगशालाओं का उदघाटन हुआ है जिसमें गांव नन्यौला व शहजादपुर शामिल हैं। उन्होंने बताया कि गांव नन्यौला में इस लघु प्रयोगशाला का निर्माण मार्केटिंग बोर्ड, अम्बाला द्वारा करवाया गया तथा इस लघु प्रयोगशाला की 6.50 लाख रूपये की प्रशासनिक स्वीकृति मिली थी जिसके विरूद्ध इस प्रयोगशाला को बनाने में 6.00 लाख रूपये खर्चा आया है। इस प्रयोगशाला का निर्माण 24 जुलाई 2020 को शुरू किया गया तथा दिनांंक 6 अक्तूबर 2020 को कार्य पूर्ण हो गया था व दिनांक 1 जुलाई 2021 को भूमि परीक्षण अधिकारी, अम्बाला को सूपूर्द की गई। इसी प्रकार शहजादपुर अनाज मंडी में भी एक लघु प्रयोगशाला का निर्माण मार्केटिंग बोर्ड, अम्बाला द्वारा करवाया गया तथा इस लघु प्रयोगशाला की 6.50 लाख रूपये की प्रशासनिक स्वीकृति मिली थी जिसके विरूद्ध इस प्रयोगशाला को बनाने में 6.00 लाख रूपये खर्चा आया है। इस प्रयोगशाला का निर्माण 26 अगस्त 2020 को शुरू किया गया तथा दिनांंक 31 मई 2021 को कार्य पूर्ण हो गया था व दिनांक 7 अगस्त 2021 को भूमि परीक्षण अधिकारी, नारायणगढ़ को सूपूर्द की गई।
कटारिया ने बताया कि नई प्रयोगशालाओं के निर्माण से किसानों को अपने खेत की मिट्टी व पानी के जांच की सुविधा बिल्कुल फ्री उपलब्ध करवाई जायेगी। मिट्टी व पानी के नमूनों की रिपोर्ट के आधार पर किसानों को फ्री में सॉयल हैल्थ कार्ड उपलब्ध करवाये जायेंगे। जिसमें खेत मे संतुलित रसायन खादों का प्रयोग हो सके तथा अन्धाधुंध रसायनिक खादों से बचाया जा सकेगा। जिसमें किसानों की आर्थिक बचत भी होगी और मिट्टी का स्वास्थ्य भी ठीक रहेगा। उन्होंने इस मौके पर यह भी कहा कि भूमि प्रयोगशालाओं से पता चल सकेगा कि भूमि की स्थिति क्या है, उसमें क्या-क्या खाद डाली जा सकती है। उन्होंने कहा कि कई बार ज्यादा खाद डालने से व रसायनिक खादों का प्रयोग होने से भूमि की उपजाउ शक्ति खत्म हो जाती है, पैसा भी वेस्ट होता है। नई भूमि प्रयोगशालाओं से किसानों को काफी फायदा मिलेगा, इससे मिट्टी का पता चल सकेगा और उसमें क्या खाद डाली जानी है, उस बारे भी किसानों को जानकारी दी जा सकेगी। उन्होंने कहा कि केन्द्र व प्रदेश सरकार निरंतर किसानों के हित के लिए कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने किसानों की आय दोगुना करने के लिए जो बीड़ा उठाया है उसके तहत हमें जन आदोंलन के रूप में इसे आगे बढ़ाने का काम करना है। इस मौके पर उन्होंने यह भी बताया कि बीते कल संसद का सत्र खत्म हो गया है। संसद में किसानों से सम्बन्धित 60 से 70 प्रश्न रखे गये थे लेकिन वातावरण ठीक न होने के कारण इस पर चर्चा नहीं हो सकी। उन्होंने कहा कि बड़े ही दुख का विषय है कि कुछ लोगों ने इस मामले को राजनीति की भेंट चढ़ा दिया है।
इस मौके पर उपायुक्त विक्रम सिंह ने भी दोनों प्रयोगशालाओं के उदघाटन की बधाई देते हुए कहा कि इससे किसानों को काफी फायदा मिलेगा। किसान अपनी भूमि की निशुल्क जांच करवा सकेंगे। जांच के उपरांत मिट्टी में कौन-कौन सी खाद डालकर भूमि की उपजाउ शक्ति बढ़ाई जा सके ताकि किसान अधिक उत्पादन करके अपनी आमदनी को बढ़ा सके।
इस मौके पर एसडीएम हितेष मीणा, मार्किटिंग बोर्ड के कार्यकारी अभियंता नवनीत, कृषि विभाग के उप निदेशक डा0 गिरीश नागपाल, रितेश गोयल, जजपा के शहरी जिला अध्यक्ष सरदार हरपाल सिंह कम्बोज, जजपा के ग्रामीण शहरी अध्यक्ष दलबीर सिंह पूनिया, पार्षद हितेश जैन, मनोनीत एमसी एवं विधानसभा संयोजक एडवोकेट संदीप सचदेवा, मनोनीत एमसी विवेक ललाणा, अर्पित अग्रवाल, एसडीओ अजमेर सिंह के साथ-साथ सम्बन्धित विभागों के अधिकारीगण मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *