• Sat. Oct 16th, 2021

प्रदेश की सहकारी चीनी मिलों को घाटे से उबारने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं:-मंत्री डॉ. बनवारी लाल

Byadmin

Nov 7, 2020

चण्डीगढ़, 7 नवंबर- हरियाणा के सहकारिता मंत्री डॉ. बनवारी लाल ने कहा कि प्रदेश की सहकारी चीनी मिलों को घाटे से उबारने के लिए हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। 
  डॉ. बनवारी लाल आज सहकारी चीनी मिल रोहतक के 65वें पिराई सत्र का शुभारंभ करने के उपरांत उपस्थित किसानों को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि केवल चीनी के उत्पादन से काम चलने वाला नहीं है, इसलिए सहकारी मिलों को लाभ में लाने के लिए अन्य कार्य भी करने होंगे।
  उन्होंने बताया कि सरकार ने सहकारी मिलों में गुड़ व शक्कर का उत्पादन करने का भी निर्णय लिया है। गुड़ व शक्कर पूर्ण रूप से ऑर्गेनिक होंगे। उन्होंने कहा कि प्रथम चरण में पलवल, महम व कैथल की मिलों में चीनी के साथ-साथ ऑर्गेनिक गुड़ व शक्कर का भी उत्पादन आरंभ होगा।  मार्च  तक शाहाबाद चीनी मिल में एथेलॉन का उत्पादन भी आरंभ हो जाएगा। सहकारिता मंत्री ने गन्ना उत्पादक किसानों का आह्वान किया कि वे गन्ने की फसल के बीच आलू या अन्य सब्जियों का उत्पादन भी करें ताकि उनकी आमदनी बढ़ सके।
  डॉ बनवारी लाल ने कहा कि आने वाले समय में एथेलॉन, गुड़ व शक्कर के अलावा चीनी मिलों में गैस व बिजली के उत्पादन के कार्य भी किए जाएंगे। कुछ मिलों में बगास से बिजली उत्पादन का कार्य पहले ही चल रहा है। उन्होंने कहा कि रोहतक चीनी मिल देश की एकमात्र ऐसी ही चीनी मिल है जिसमें रिफाइंड चीनी का उत्पादन किया जा रहा है। सहकारिता मंत्री ने कहा कि चीनी मिल किसानों व मिल कर्मचारियों की है और उन्हें इसी भावना से काम करके मिल को लाभ में लाने के लिए हर संभव प्रयास करने चाहिए।
सहकारिता मंत्री ने कहा कि अधिकारियों की मेहनत से सहकारी चीनी मिल नवंबर के पहले सप्ताह में आरंभ हो रही है। उन्होंने कहा कि पूरा प्रयास रहेगा कि प्राइस सीजन के बीच में मिल के संचालन में किसी भी प्रकार की परेशानी न हो। किसान का गन्ना अप्रैल माह तक ले लिया जाएगा। 
  राज्य के पूर्व सहकारिता मंत्री मनीष कुमार ग्रोवर ने अपने संबोधन में कहा कि हरियाणा देश का पहला ऐसा राज्य है जहां गन्ना उत्पादक किसानों को गन्ने का सर्वाधिक मूल्य दिया जा रहा है। 
मिल के प्रबंध निदेशक मानव मलिक ने बताया कि पिछले पेराई सत्र में किसानों को 156 करोड़ रुपए की गन्ना राशि का भुगतान किया गया और 13 करोड़ 75 लाख रुपये की बिजली का निर्यात किया गया, जो कि अपने आप में एक रिकॉर्ड है। 
  सहकारिता मंत्री डॉ बनवारी लाल, पूर्व सहकारिता मंत्री मनीष कुमार ग्रोवर, उपायुक्त एवं चीनी मिल के अध्यक्ष कैप्टन मनोज कुमार ने मशीन में गन्ना डालकर पिराई सत्र का शुभारंभ किया। इससे पूर्व सभी मेहमानों ने हवन में आहुति डालकर मिल के सफल संचालन की कामना की।
  ट्रोली के माध्यम से गन्ना लाने में गांव मोखरा रोज के मनजीत सिंह प्रथम रहे तथा दूसरा स्थान इसी गांव के दीपक कुमार को मिला। बैलगाड़ी से गन्ना लाने में भाली के मनदीप प्रथम स्थान पर रहे जबकि दूसरा स्थान गांव गद्दी खेड़ी के राम तीर्थ को मिला। ट्रक से गन्ना लाने में मोखरा के राजा पहले स्थान पर है जबकि दूसरा स्थान दुजाना के काला को मिला। इन सभी को मुख्य अतिथि डॉ बनवारी लाल ने साल भेंट कर सम्मानित किया। 
इस अवसर पर शुगरफेड के एमडी शक्ति सिंह, मिल के निर्वाचित निदेशक वेदपाल, वजीर सिंह, सूर्य प्रकाश, विजेंद्र सिंह, मोहन सिंह, गुगन सिंह एडवोकेट के अलावा भाजपा के जिला अध्यक्ष अजय बंसल,आदि मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *