• Sat. Oct 16th, 2021

पूंजीपतियों के फायदे के लिए किसानों को बर्बाद करना चाहती है सरकार : मलौर*

Byadmin

Sep 21, 2020

अम्बाला – 21-सितम्बर
*प्रधानमन्त्री अपने अंहकार की लड़ाई समझ रहे हैं , छुट्टी के दिन बिना वोटिंग के विपक्ष की आवाज को दबाते बिल पास कर किसानों पर थोपा काला कानून*
*किसानों के इतिहास में काला दिवस*
पूर्व विधायक एवं सदस्य अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी चौ जसबीर मलौर ने कहा कि किसानों की मांगो को नजरअंदाज कर , विपक्ष की आवाज को दबाते हुए जिस तरह रविवार के दिन बिना वोटिंग के राज्यसभा में किसानी विरोधी बिल पास किया गया , वह अत्यंत दुर्भाग्यपूर्ण है | यह दिन किसानों के इतिहास में काला दिवस के रूप में गिना जाएगा | मलौर ने कहा कि भारत एक कृषि प्रधान देश है और देश की अर्थव्यवस्था पूर्ण रूप से कृषि पर निर्भर है | भाजपा सरकार सिर्फ़ पूंजीपतियों की सरकार है और सिर्फ उनके फायदे के लिए किसानों को बर्बाद करने वाले बिल पास कर रही है | मलौर ने सरकार की मशां पर सवाल उठाते हुए कहा कि अगर भाजपा सरकार की नीयत में फर्क नहीं है तो तीनों अध्यादेशों में एमएसपी की गारटीं क्यूं नहीं दी जा रही ?

भाजपा सरकार किसानों की पुरानी मागं स्वामीनाथन रिपोर्ट को लागू करने की बजाय ऐसे कानून लेकर आई जिनसे किसान की मेहनत की कमाई को सस्ते दामों पर खरीद कर जमाखोरी को बढ़ावा मिल सके | मलौर ने कहा कि भाजपा सरकार में मन्त्री रही हरसिमरत कौर बादल का इस्तीफा भी इस बात का स्पष्ट परिमाण है कि सरकार ने बिल लेकर आने से पहले कैबिनेट मन्त्रियों तक को विश्वास में नहीं लिया गया | सरकार लोकतंत्र की बजाय तानाशाही से चल रही है | मलौर ने खट्टर सरकार पर वार करते हुए कहा कि सरकार ने जो रवैया शांतिपूर्वक प्रदशन कर रहे किसानों के प्रति अपनाया अत्यंत निदंनीय है | जिस किसान के पैदा किए अन्न से लोगों के पेट भरते हैं उन पर लाठियां भांजी गई एवं झूठे मुकदमे दर्ज किए गए | मलौर ने कहा कि ये तीनों कानून देश के किसान , मजदूर , व्यापारी एवं आड़ती को बर्बाद कर देगें |

देश की पूरी अर्थव्यवस्था तहस नहस हो सकती है | देश के प्रधानमन्त्री अपना अंहकार त्याग कर किसानों की आवाज सुने और ऐसे काले कानून जनता पर ना थोपें | मलौर ने कहा कि पूरी कांग्रेस पार्टी प्रदेशाध्यक्षा बहन कमारी शैलजा जी के नेतृत्व मे किसानों के साथ कधें से कधां मिलाकर साथ खड़ी है | इस मौके पर सुरजीत पंजोखरा , लाभ सिंह ठरवा , राजबीर काला , हरबंस ईस्माइलपुर , बलजीत ईस्माइलपुर , बलजिन्द्र बलाना , अमरजीत हुमांयूपुर , टिकां कावंला , जसपाल सौंडा , गौरव चोपड़ा , अनंतराम काजल , गोल्डी मलौर , दलजीत सिंह , राहुल भारद्वाज आदि कार्यकर्ता मौजूद रहे |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *