• Tue. Aug 16th, 2022

पावर2एसएमई ने हरियाणा सरकार के एमएसएमई निदेशालय के साथ एमओयू पर हस्ताक्षर किए

Byadmin

Feb 11, 2021

चंडीगढ़, 11 फरवरी
यह पहल निदेशालय और पावर2एसएमई के जरिए सही अवसर, मार्गदर्शन और सहायता प्रदान करके एमएसएमई को सशक्त बनाएगी
चंडीगढ़, 11 फरवरी – एसएमई के लिए भारत के पहले Óबाइंग क्लबÓ, पावर2एसएमई ने माननीय मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल के मार्गदर्शन में आज हरियाणा सरकार के एमएसएमई निदेशालय के साथ एक समझौता ज्ञापन (एमओयू) पर हस्ताक्षर किए। हरियाणा में एमएसएमईज़ के लिए ईकामर्स लिंकेज को मजबूत करने के उद्देश्य से पावर2एसएमई प्राइवेट लिमिटेड की सीनियर वाईस प्रेसिडेंट सुधा सरीन और एमएसएमई निदेशालय, हरियाणा के महानिदेशक आईएएस श्री विकास गुप्ता ने माननीय उप मुख्यमंत्री, श्री दुष्यंत चौटाला की उपस्थिति में समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए। 
समझौता ज्ञापन में हरियाणा के एमएसएमई के लिए डिजिटल सक्षमता, सशक्तीकरण और संवर्धित बाजार पहुंच पर केंद्रित बातचीत की परिकल्पना की गई है। इस पहल के अनुसार, पावर2एसएमई, हरियाणा के एमएसएमई निदेशालय के तत्वावधान में हरियाणा के विभिन्न जिलों में एसएमई परिवर्तन शिविर आयोजित करेगा। पावर2एसएमई इन परिवर्तन शिविरों के माध्यम से अपने डिजिटल पोर्टल पर क्षेत्रीय एमएसएमईज़ की ऑनबोर्डिंग की सुविधा भी प्रदान करेगा।
माननीय उपमुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार राज्य में समावेशी और संतुलित क्षेत्रीय विकास के साथ उद्यमिता को बढ़ावा देने की दिशा में काम कर रही है। यह रणनीतिक सहयोग एमएसएमई और राज्य के दूरदराज के हिस्सों में रह रहे कारीगरों की घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय बाजारों तक पहुंच को सीमित करने वाली चुनौतियों से उबरने में मदद करेगा। यह न केवल मौजूदा उद्यमियों की बिक्री को बढ़ावा देगा बल्कि नए उद्यमियों के लिए अभूतपूर्व अवसर पैदा करेगा। इस पहल के माध्यम से, हम राज्य से स्वदेशी और विशेष उत्पादों की उपलब्धता बढ़ाने का लक्ष्य रखते हैं, चाहे वह औद्योगिक उत्पाद हों, या पारंपरिक हस्तशिल्प उत्पाद ताकि हम ब्रांड हरियाणा को और मजबूत बना पाएं।
इस एमओयू के बारे में पावर2एसएमई के फाउंडर और सीईओ तथा फिक्की सीएमएसएमई के प्रेसिडेंट श्री आर नारायण ने कहा, कि हरियाणा ने हमेशा राज्य के उद्यमी क्षेत्र को अवसर प्रदान किया है। इस एमओयू का उद्देश्य मेक इन इंडिया और डिजिटल इंडिया के बीच के मजबूत संबंध स्थापित करना है ताकि इस क्षेत्र को और गति प्रदान की जा सके, एवं एमएसएमई क्षेत्र से रोजगार और आर्थिक योगदान को बढ़ावा देने के लिए अनुकरणीय परिणाम तैयार किए जा सकें।
हरियाणा सरकार के प्रमुख सचिव उद्योग और वाणिज्य, आईएएस श्री विजयेंद्र कुमार ने कहा कि हरियाणा में एमएसएमई की महत्वपूर्ण उपस्थिति के साथ कई प्रमुख उद्योग हैं जैसे कि मोटर वाहन, कृषि और फ़ूड प्रोसेसिंग इंडस्ट्री, कपड़ा, इंजीनियरिंग, आदि। राज्य सरकार एमएसएमई विकास को बढ़ावा देने हेतु प्रयासरत  है। विश्वास कीजिए कि यह पहल हरियाणा के एमएसएमई के लिए बाजार और भौगोलिक विस्तार सुनिश्चित करेगी।
एमएसएमई डीजी, आईएएस श्री विकास गुप्ता ने इस बात पर जोर दिया कि एमएसएमई निदेशालय हमारे एमएसएमईज़ की उन्नति और समग्र विकास के लिए महत्वपूर्ण कदम उठा रहा  है क्योंकि यह राज्य के आर्थिक और सामाजिक विकास में विशेष योगदान देता है। यह समझौता ज्ञापन हमारी एमएसएमईज़ को अपनी भौगोलिक सीमाओं को पार कर नए बाजारों तक पहुंचने में मदद करेगा। हम अपने एमएसएमई के लिए प्रभाव पैदा करने और बाजार के बड़े अवसर पैदा करने की आशा करते हैं।
यह एमओयू हाल में पेश हुए बजट के मद्देनजर महत्वपूर्ण है जिसमें एमएसएमई को बजट आवंटन को दोगुना करने, कच्चे माल की ड्यूटी में कमी करने की घोषणा की गई है जिससे आत्मनिर्भर भारत को इनपुट प्रदान करेगा। डिजिटल प्लेटफार्मों पर उपलब्ध प्रोत्साहनों को देखते हुए, एमएसएमई के बीच डिजिटल साक्षरता को बढ़ावा देना अनिवार्य है। एमओयू प्रत्येक स्तर पर पारदर्शिता के साथ एमएमएमई को उच्च क्षमता और उत्पादकता प्राप्त करने में मदद करेगा, जो एमएसएमई क्षेत्र के लिए बढ़े हुए अवसरों में तब्दील होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.