• Sat. Oct 16th, 2021

धान की कटाई के उपरांत फसल अवशेष/फानों में आग न लगाएं:-उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा।

Byadmin

Oct 7, 2020


अम्बाला, 7 अक्तूबर:-

उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा ने कहा कि पर्यावरण को स्वच्छ रखकर रोगों से बचा जा सकता है। उन्होंने कहा कि इस समय धान की कटाई का सीजन शुरू हो चुका है। धान की कटाई उपरांत फसल अवशेष/फानों को आग लगाने से वायु प्रदूषण होता है। उन्होंने कहा कि फसल अवशेष/फानों को आग न लगाई जाए, आग लगाने से होने वाले वायु प्रदूषण से सांस, फेफडों से सम्बन्धित बीमारियां तो होती ही हैं, सामान्य स्वास्थ्य पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है, जीवन प्रत्याशा में कमी व असमय मृत्यु भी हो सकती है। खेतों में आग लगाने से हवा में प्रदूषण  के छोटे-छोटे कणों से पी.एम. 2.5 का स्तर अत्याधिक बढ़ जाता है। इससे सिर दर्द और सांस लेने में तकलीफ होती है। अस्थमा और कैंसर जैसी बीमारियां भी हो रही हैं।
कृषि विशेषज्ञों के अनुसार पराली को जलाने से वायु प्रदूषण होता है, मिट्टी की जैविक गुणवत्ता प्रभावित होती है, मिट्टी में मौजूद कईं उपयोगी बैक्टीरिया व कीट नष्ट हो जाते हैं। पराली को जलाने की बजाए इससे जैविक खाद बनाएं। इसका अन्य उपाय बायोमास एनर्जी, छप्पर बनाने तथा मशरूम की खेती आदि में करें और राष्ट्रीय कृषि नीति का पालन करें। यदि कोई भी किसान/व्यक्ति खेतों में पराली जलाता है तो आई.पी.सी. की धारा 188 के तहत उसे 6 महीने की जेल व 15000 रूपये तक का जुर्माना अथवा दोनों हो सकते हैं। इस बारे में हरियाणा राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड तथा कृषि विभाग द्वारा किसानों को विभिन्न माध्यमों के द्वारा जागरूक भी किया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *