• Tue. Jan 18th, 2022

जिला अम्बाला को अनिमिया मुक्त करने के दृष्टिगत बेहतर तरीके से कार्य किया जा रहा है।

Byadmin

Mar 26, 2021

अम्बाला, 26 मार्च
उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा के मार्गदर्शन में जिला अम्बाला को अनिमिया मुक्त करने के दृष्टिगत बेहतर तरीके से कार्य किया जा रहा है। अम्बाला ब्लाक द्वितीय के तहत आने वाले सभी गांवों में शिविर लगाकर महिलाओं व बालिकाओं के स्वास्थ्य की जांच की गई है। अम्बाला ब्लाक वन के तहत पिछले 12 दिनों में शिविरों के माध्यम से एचबी के लगभग 25000 टैस्ट 25 मार्च तक कर लिए गये हैं। लोगों में शिविरों को लेकर उत्साह है, परिणाम यह है कि महिलाएं व बालिकाएं अनिमिया का टैस्ट करवाने में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही हैं।
उपायुक्त अशोक कुमार शर्मा ने बताया कि अम्बाला ब्लाक वन के तहत 122 गांवों में दूसरे चरण के तहत इस अभियान को किया जा रहा है। इन गांवों में वे गांव भी शामिल है जो नगर निगम क्षेत्र के तहत आते हैं। लोगों को अभियान के बारे में सम्पूर्ण जानकारी मिले, इसके लिए प्रचार वाहन के माध्यम से उन्हें सम्पूर्ण जानकारी देते हुए उनके गांव में लगने वाले शिविरों की भी जानकारी दी जा रही है। उपायुक्त ने बताया कि शिविरों को लगाया जाने का मुख्य उद्देश्य यही है कि महिलाओं व बालिकाओं के खून की जांच हो सके। जांच उपरांत यदि उन्हें दवाई या अन्य कोई चिकित्सा की आवश्यकता है उसे मुहैया करवाई जा सके। उन्होंने यह भी बताया कि पिछले 12 दिनों में 90 गांवो को कवर करते हुए लगभग 25000 टैस्ट करने का काम किया गया है। टैस्ट करवाने में हर वर्ग की महिलाएं व बालिकाएं शामिल हैं। उपायुक्त ने यह भी कहा कि आगामी लगने वाले शिविरों में महिलाएं व बालिकाएं आगे आकर अनिमिया की जांच करवाने में स्वास्थ्य विभाग की टीम का सहयोग करें।
मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी उत्सव शाह ने बताया कि उपायुक्त के मार्गदर्शन में जिले को अनिमियामुक्त करने की दिशा में बेहतर समन्वय के साथ कार्य किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि इस कार्य के तहत स्वास्थ्य विभाग की 20 टीमें बनाई गई हैं जिनमें लैब टैक्नीशियन, कैंप मैनेजर, कैंप सहायक व डाटा आप्रेटर के साथ अन्य शामिल हैं। शैडयूल के मुताबिक जिन गांव में शिविर लगाकर अनिमिया की जांच की जाती है उसका रिकार्ड भी मैंटेन करने का काम किया जा रहा है। उन्होंने यह भी बताया कि महिला एवं बाल विकास विभाग भी इस अभियान में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। गांवों में लगने वाले शिविर में आंगनवाडी वर्कर, हैल्पर, गांव की महिलाओं को इस अभियान के बारे में जागरूक करने का काम करती हैं और उन्हें शिविरों में भी लाने का काम भी कर रही हैं। अनिमिया की जांच से पहले उन्हें सम्पूर्ण जानकारी भी उपलब्ध करवाई जा रही है। इतना ही नहीं उन्हें आहार संबधी जानकारी भी देने का काम किया जा रहा है।
उत्सव शाह ने यह भी बताया कि जल्द ही शेष बचे 32 गांवों को भी कवर करते हुए वहां पर भी अनिमिया के टैस्ट की जांच करने का कार्य कर लिया जायेगा। उन्होंने बताया कि जिला अम्बाला को 15 मई तक शत प्रतिशत अनिमिया मुक्त करने का लक्ष्य है और इसे सभी के सहयोग से कर लिया जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *