• Thu. Oct 21st, 2021

कोरोना के संक्रमण को रोकने और शारीरिक क्षमता तथा दक्षता बढ़ाने में आयुर्वेद बहुत ही लाभदायक-

Byadmin

Jun 16, 2021

कोरोना के संक्रमण को रोकने और शारीरिक क्षमता तथा दक्षता बढ़ाने में आयुर्वेद बहुत ही लाभदायक– आयुर्वेद का विश्व में हैं बहुत बड़ा स्थान– आयुर्वेद में समाहित औषधियों के सेवन और विधि को लेकर समुचे प्रदेश में लोगों को जागरूक रहने की जरूरत:- गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज।
अम्बाला, 16 जून:-
 गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि कोरोना के संक्रमण को रोकने और शारीरिक क्षमता तथा दक्षता बढ़ाने में आयुर्वेद बहुत ही लाभदायक हैं। हमारी आयुर्वेदिक पद्घति का पूरे विश्व में अनुकरणीय व अनुसरणीय स्थान हैं। आयुर्वेद में सम्माहित औषधियां कोरोना के साथ-साथ अन्य बीमारियों के खिलाफ लडऩे में भी मदद करती हैं तथा शारीरिक ताकत को बढ़ाने का काम करती है। प्रदेश के सभी जिलों मेंं आयुर्वेदिक औषधालय हैं। यह पद्घति बहुत ही सारगर्भित मानी जाती है। शुरू से ही आयुष विभाग लोगों को जागरूक करने का काम कर रहा हैं। गृह मंत्री अनिल विज अपने निवास स्थान पर बात कर रहे थे। उन्होनें  बताया कि लोगों को जागरूक करने  के लिए समूचे हरियाणा प्रदेश में साहित्य भी वितरित करवाया गया, ताकि लोगों को अधिक से अधिक विषयगत जानकारी हो। कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने और शारीरिक क्षमता और दक्षता बढ़ाने में आयुर्वेदिक पद्घति बहुत ही फायदेमंद है। शारीरिक क्षमता बढ़ाने में आयुर्वेद पद्घति का महत्व और बढ़ा है। हमें पद्घति को अंगीकृत करते हुए इसका लाभ उठाने की जरूरत है। कोरोना काल के दौरान काफी संख्या में लोगों ने आयुर्वेदिक दवाओं को उपयोग और सदुपयोग करके अपनी शारीरिक क्षमता और दक्षता बढ़ाने का काम किया है। आयुष विभाग निरंतरता में लोगों को जागरूक करने का काम जारी रखे हुए है।
विज ने यह भी कहा कि हमारी संस्कृति में समाहित और नैतिक मूल्यों में आयुर्वेद, प्रणायाम, योग, तपस्या इत्यादि का काफी जिक्र आता हैं। ऋषि मुनियों द्वारा दिए गए संदेशों से निकली सीख हमारा किसी न किसी रूप में मार्ग दर्शन कर रही हैं। हमें सामाजिक और नैतिक मूल्यों में निहित आदर्शो एवं संस्कारों को अपनाकर समाज और राष्टï्र के नवनिर्माण में अहम योगदान देने की जरूरत हैं। कोरोना काल में सभी पद्घतियों ने कोरोना के कुचक्र को तोडऩे में अहम भूमिका अदा की हैं। प्रदेश सरकार पूरी सजगता और सावधानी के  साथ आगे बढ़ रही हैं। हम सभी को चाहिए कि सरकार द्वारा जारी निर्देशों की निरन्तरता में पालना करते रहें।
इस विषय को लेकर आयुर्वेदिक डॉ जितेन्द्र से भी बात कि गई तो उन्होनें बताया कि लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाव सम्बधी विषय को लेकर प्रचार अभियान चलाया गया जो निरन्तरता में समय समय पर जारी भी हैं। प्रचार वाहन के साथ-साथ पैम्पफ  लेट का भी वितरण किया गया, जिनमें आयुष मंत्रालय के द्वारा सुझाए गए तरीकों को अपनाने बारें विस्तार से बताया जा रहा है। लोगों को पद्घति के बारे में समय समय पर अब भी जागरूक किया जा रहा हैं। आयुष विभाग द्वारा आयुर्वेदिक औषधियों जैसे गुढुची, घन वटी, शमसनी वटी, अनु तेल बांटी गई। इसमें मुख्यत: पंचायती राज विभाग के कर्मचारी, पुलिस विभाग के कर्मचारी, नगर निगम के सभी अधिकारी एवं कर्मचारी, सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग के कर्मचारी तथा वृद्वाश्रम में रहने वाले वृद्घ लोगों सहित  कोरोना योद्घाओं और आम जन को ये दवाईयां बांटी गई।
उन्होंने यह भी बताया कि आयुर्वेदिक पद्घति हमारी रोग प्रतिरोधात्मक ताकत को बढ़ाती है। कोरोना काल के दौरान काफी लोगों ने आयुर्वेदिक पद्घति तथा औषधियों को अपनाकर अपने आप को सुरक्षित रखा है। होम एकांतवास के दौरान कोरोना मरीज आयुर्वेदिक औषधियों के साथ-साथ प्राणायाम भी करते रहें और योग का सहारा लेकर भी उन्होंने स्वयं को स्वस्थ रखा। आयुर्वेद मे समाहित ऋषि-मुनियों की सीख हमें निरंतरता में स्वस्थ रहने की प्रेरणा देती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *