• Sat. May 28th, 2022

कुरुक्षेत्र की निर्मला ने जीता 51 हजार का हरियाणवी सांझी का पुरस्कार

Byadmin

Oct 15, 2021

कुरुक्षेत्र की निर्मला ने जीता 51 हजार का हरियाणवी सांझी का पुरस्कार

हरियाणा सांझी उत्सव-2021 का परिणाम घोषित

चंडीगढ़, 15 अक्टूबर- कला एवं सांस्कृतिक कार्य विभाग की सांस्कृतिक प्रभारी रेनू हुड्डा ने कहा कि हरियाणा के कला एवं सांस्कृतिक कार्य विभाग एवं विरासत हेरिटेज विलेज कुरुक्षेत्र के संयुक्त तत्वावधान में 7 से 15 अक्टूबर 2021 तक आयोजित हरियाणा सांझी उत्सव में प्रथम स्थान कुरुक्षेत्र की 65 वर्षीय निर्मला देवी टीम नंबर 22 ने हासिल किया। जबकि दूसरे स्थान पर टीम नंबर 24 कैथल की चन्दो देवी रही। तीसरा स्थान करनाल की टीम नंबर 2 के रूप में सिमरन ने हासिल किया। चौथा स्थान टीम नंबर 23 के रूप में कुरुक्षेत्र की रमनदीप ने हासिल किया। पांचवें स्थान पर टीम नंबर 19 करनाल की मुकेश रानी रही। विशेष पुरस्कार टीम नंबर 29 की 65 वर्षीय बल्लभगढ़ की रहने वाली सूरज देवी ने हासिल किया।

         उन्होंने कहा कि हरियाणा सरकार व विरासत हेरिटेज विलेज के सहयोग से हरियाणा में पहली बार राज्य स्तरीय हरियाणा सांझी उत्सव का आयोजन लोक सांस्कृतिक स्वरूप में किया गया। प्रथम पुरस्कार विजेता को 51 हजार रुपये, द्वितीय पुरस्कार विजेता को 31 हजार रुपये, तीसरा स्थान पाने वाली महिला को 21 हजार रुपये, सांत्वना पुरस्कार हासिल करने वाली 2 महिला कलाकारों को 11 हजार रुपये तथा विशेष पुरस्कार हासिल करने वाली महिला कलाकार को विरासत की ओर से 51 सौ रुपये का पुरस्कार दिया जाएगा।

         इस प्रतियोगिता में सांझी बनाने वाली 54 महिला कलाकारों ने भाग लिया। निर्णायक मंडल के सदस्य के रूप में युवा एवं सांस्कृतिक कार्य विभाग कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय के निदेशक डॉ. महासिंह पूनिया, हरियाणवी संस्कृति विशेषज्ञ डॉ. रणबीर फौगाट, कल्पना पूनिया एवं रेनू हुड्डा ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने बताया कि हरियाणा सांझी उत्सव अपने आप में यादगार रहा। पहली बार सांझी उत्सव में सांझी गीतों का गायन किया गया। सांझी गीतों पर महिला कलाकारों ने लोक नृत्य प्रस्तुत किए। इसके साथ प्रदेश भर से आए अनेक कलाकारों एवं सांस्कृतिक समूहों ने अपनी प्रस्तुतियों से सबका मन मोहा।

6 thoughts on “कुरुक्षेत्र की निर्मला ने जीता 51 हजार का हरियाणवी सांझी का पुरस्कार”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed