• Sat. Aug 20th, 2022

एडीजीपी श्रीकांत जाधव साहब के प्रयास हो रहे हैं सफल

Byadmin

Jun 25, 2022

व्यक्ति नशा शौक में करता है लेकिन यही शौक उसके लिए शोक अर्थात दुःख बन जाता है

प्रयास 2000 में फतेहाबाद से आरम्भ हुआ और आज वट वृक्ष का रूप ले चूका है

बच्चों की गतिविधियों का निरीक्षण करें अभिभावक- उप निरीक्षक डॉ. अशोक कुमार  

अम्बाला। अम्बाला क्लब में हरियाणा राज्य नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो प्रमुख एवं अंबाला मंडल के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक एवं प्रयास के संस्थापक श्री श्रीकांत जाधव साहब के दिशा-निर्देशों और मार्गदर्शन में एक दिवसीय 30वां नशे के विरुद्ध जागरूकता कार्यक्रम  आयोजित किया गया। कार्यक्रम में थाना प्रभारी बलदेव नगर गौरव कुमार मुख्यातिथि के रूप में पधारे हुए थे जबकि हरियाणा राज्य स्वापक नियंत्रण ब्यूरो के जागरूकता कार्यक्रम एवं पुनर्वास प्रभारी जो उप निरीक्षक के पद पर हैं, डॉ. अशोक कुमार वर्मा मुख्य वक्ता के रूप में पहुंचे। पुलिस से सेवानिवृत उप निरीक्षक एवं प्रयास के सदस्य कर्म चंद की अध्यक्षता में यह कार्यक्रम सम्पन्न हुआ। थाना प्रभारी गौरव कुमार ने कार्यक्रम का विधिवत शुभारंभ करते हुए कहा कि 12 जून से 26 जून तक नशे से आज़ादी पखवाड़े के अंतर्गत यह कार्यक्रम आयोजित किया गया है. हरियाणा राज्य स्वापक नियंत्रण ब्यूरो के जागरूकता कार्यक्रम एवं पुनर्वास प्रभारी एवं उप निरीक्षक डॉ. अशोक कुमार वर्मा ने उपस्थित जनप्रतिनिधियों को सम्बोधित करते हुए कहा कि राष्ट्रीय अपराध अभिलेख के आंकड़ों के अनुसार नशे के कारण अधिकतर अपराध घटित होते हैं और युवा पीढ़ी इस और आकर्षित हो रही है. अधिकतर ऐसे युवा सामने आ रहे हैं जो सम्पन्न परिवारों के हैं और ड्रग्स जैसे भयानक नशे का सेवन कर रहे हैं. पहले तो व्यक्ति नशा शौक में करता है लेकिन यही शौक उसके लिए शोक अर्थात दुःख का कारण बन जाता है. व्यक्ति नशा छोड़ना चाहता है लेकिन नशा उसे नहीं छोड़ता. इसका कारण स्पष्ट है कि यह नशा उसकी शिराओं में रक्त में चला जाता है और मांग करता है मुझे नशा दो. उन्होंने कहा कि एनसीबी हरियाणा प्रमुख एवं अम्बाला मंडल के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक श्री श्रीकांत जाधव साहब ने यह अभियान वर्ष 2000 में फतेहाबाद ज़िले से आरम्भ किया था जो आज वट वृक्ष का रूप ले चूका है. 2020 से उन द्वारा गठित प्रयास संस्था पुरे हरियाणा राज्य को नशा मुक्त करने के लिए कृतसंकल्प है. उन्होंने विभिन्न उदाहरण देकर उपस्थित लोगों को नशे से दूर रहने के लिए जागरूक किया और प्रण करवाया कि कोई भी व्यक्ति जीवन में नशा नहीं करेगा. ब्यूरो के हेल्पलाइन नंबर 9050891508 पर गुप्त सूचनाएं देने के लिए प्रोत्साहित किया. उन्होंने कहा कि प्रयास और एनसीबी हरियाणा द्वारा 90 से अधिक नशे में ग्रस्त युवाओं को कुरुक्षेत्र में स्थित नशा मुक्ति केंद्र में भर्ती करके नशा मुक्त किया गया है. उन्होंने आगे कहा कि प्रत्येक माता पिता और अभिभावक अपने बच्चों की गतिविधियों, उनके शयन कक्ष आदि पर समय समय पर ध्यान दें और देखे कि कहीं उनके कक्ष में कोई सफ़ेद अथवा भूरे रंग का पाउडर तो नहीं है अथवा कोई सिगरेट का टुकड़ा अथवा कोई छोटा पाइप आदि तो नहीं है. यदि ऐसा है तो शीघ्र बच्चे से प्रेमपूर्वक बात करें और हमे सूचित करें. उन्होंने कहा कि नशे में ग्रस्त व्यक्ति के साथ घृणा न करें अपितु प्रेम से व्यवहार करें. उन्होंने बताया कि नशा करने वाले व्यक्ति के व्यवहार में परिवर्तन आ जाता है. नशा करके वह अधिक सोता है. भूख कम हो जाती है. बोलता कम है. धीरे धीरे शरीर दुर्बल हो जाता है और कुछ समय के पश्चात ऐसे व्यक्ति की मृत्यु संभावित है. उन्होंने कहा कि एडीजीपी श्रीकांत जाधव साहब के दिशानिर्देशों और मार्गदर्शन में हरियाणा को शीघ्र नशा मुक्त कर लिया जाएगा लेकिन यदि आप साथ रहेंगे तो इतिहास में आपका नाम भी होगा कि यह नशे के विरुद्ध लड़ाई में साथ था. उन्होंने उपस्थित समाजसेवियों को ब्यूरो के हेल्पलाइन नंबर 9050891508 पर गुप्त सूचनाएं देने के लिए प्रोत्साहित किया. उन्होंने कहा कि प्रयास और एनसीबी हरियाणा द्वारा 90 से अधिक नशे में ग्रस्त युवाओं को कुरुक्षेत्र में स्थित नशा मुक्ति केंद्र में भर्ती करके नशा मुक्त किया गया है.————————————

One thought on “एडीजीपी श्रीकांत जाधव साहब के प्रयास हो रहे हैं सफल”

Leave a Reply

Your email address will not be published.