• Sat. Oct 23rd, 2021

उपायुक्त विक्रम सिंह ने कहा कि भारतीय संस्कृति में सदैव गुरू (अध्यापक) का एक अहम स्थान रहा है।

Byadmin

Sep 9, 2021

अम्बाला, 9 सितम्बर:- उपायुक्त विक्रम सिंह ने कहा कि भारतीय संस्कृति में सदैव गुरू (अध्यापक) का एक अहम स्थान रहा है। उन्होंने कहा कि समाज में अध्यापक को शुरू से ही मान-सम्मान दिया जाता है और पुराने समय में तो लोग मास्टर जी के पास जाकर ही सलाह एवं उनका मार्गदर्शन प्राप्त करते थे। उपायुक्त आज पंचायत भवन में राजकीय प्राथमिक शिक्षक संघ (रजि0 न0 421) अम्बाला द्वारा अध्यापक दिवस के उपलक्ष्य में आयोजित चौथे रक्तदान शिविर में उपस्थित रक्तदाताओं व अन्य लोगों को सम्बोधित कर रहे थे। उपायुक्त विक्रम सिंह ने रक्तदान शिविर में बतौर मुख्य अतिथि शिरकत की। उन्होंने कहा कि रक्तदान करना व रक्तदान शिविर लगाना एक सराहनीय कार्य है, इससे जहां जरूरतमंद रोगियों व दुर्घटना में घायल लोगों की रक्त की जरूरत पूरी होती है वहीं समाज में एक अच्छा संदेश भी जाता है। उन्होंने कहा कि अध्यापकों का कार्य शिक्षा के साथ-साथ चुनाव डियूटी, पीपीपी आदि कार्यों में सराहनीय रहा है। उन्होंने कहा कि प्राथमिक शिक्षक संघ द्वारा रक्तदान शिविर आयोजित करना समाज में एक जागरूकता लाने का काम करेगा। उपायुक्त ने रक्तदाताओं को बैज लगाकर व प्रमाण पत्र देकर उनका उत्साहवर्धन किया।
उन्होंने संघ द्वारा हर वर्ष शिक्षक दिवस के उपलक्ष्य में रक्तदान शिविर लगाने की सराहना करते हुए कहा कि रक्तदान करना और रक्तदान शिविर आयोजित करना एक प्रशंसनीय कार्य है। इससे दूसरे लोगों को भी प्रेरणा मिलती है। उपायुक्त ने कहा कि शिक्षक प्राचीन काल से ही पथ प्रदर्शक रहा है और शिक्षक  संगठन द्वारा किए जाने वाले इस सामाजिक कार्य से समाज को भी एक प्रेरणा मिलेगी। जिला शिक्षा अधिकारी सुरेश कुमार ने अध्यापकों की प्रशंसा करते हुए कहा कि वह अपने ड्यूटी के साथ-साथ बीएलओ, परिवार पहचान पत्र की जांच व अन्य कई गैर शैक्षणिक कार्य करने के साथ-साथ  रक्तदान करने जैसा महान कार्य भी कर रहे हैं इसलिए सभी अध्यापक प्रशंसा के पात्र हैं।
इस चौथे रक्तदान शिविर में संघ द्वारा 75 यूनिट रक्तदान करने का उद्देश्य निर्धारित किया गया था लेकिन संघ के पदाधिकारियों के सहयोग के कारण संघ अपने लक्ष्य को पार करते हुए 78 यूनिट रक्तदान करने में समर्थ रहा। जिला मौलिक शिक्षा अधिकारी अनूप सिंह जाखड़ ने कहा कि आज तक विज्ञान द्वारा रक्त का कोई भी विकल्प नहीं बनाया गया है और ना ही रक्त प्रयोगशाला में बनाया जा सकता है। जिला परियोजना समन्वयक सुधीर कालड़ा ने संघ की प्रशंसा करते हुए कहा कि संगठन इससे पहले भी अपने विद्यालयों में छात्र संख्या बढ़ाने वाले अध्यापकों को सम्मानित कर चुका है तथा 3 बार रक्तदान  शिविर लगा चुका है। इस अवसर पर जिला उप शिक्षा अधिकारी मीना राठी, खंड शिक्षा अधिकारी रेनू अग्रवाल, ज्योति सभरवाल, सुदेश कुमारी, मनजीत कौर उपस्थित रहे।
उन्होंने अध्यापकों का हौसला बढ़ाया मंच का संचालन अनिल भाटिया द्वारा किया गया। जिला प्रधान अमित छाबड़ा ने कहा कि संघ का प्रयास रहेगा कि हर वर्ष शिक्षा दिवस पर इस तरह का आयोजन किया जाए संघ की तरफ से राज्य उप महासचिव राजेश शर्मा, क्षेत्रीय प्रभारी नरेंद्र सिंह, जिला प्रधान अमित छाबड़ा, जिला रैडक्रास सोसायटी की सचिव विजय लक्ष्मी, संघ के जिला महासचिव राजीव शर्मा, जिला कोषाध्यक्ष प्रकाश चंद्र, हरदेव सिंह, इंद्रजीत भट्ट, प्रवीण शर्मा, प्रवीण वर्मा, अमित मदान, संजीव शर्मा, भगवंत सिंह, पंकज गर्ग, मंजुला रानी, प्रवेश भाटिया, रजनी छाबड़ा, नीलम छाबड़ा, रजनी शर्मा, श्रुति कांत, अमित धीमान, कमलदीप भट्टी, अनूप कुमार, हरबंस सिंह, सुरेंद्र मोहन, तविंदर शर्मा, हरविंदर छाबड़ा, निर्मल कुमार, दलबीर सिंह, अनीता सहगल, करणी देवी, कृष्ण कुमार पुनिया, बिजेंद्र रेढू, पूनम रानी मल्लिका, मंजू बाला, रंजना, रूपा गोरी, मोनिका, सपना, संजीव गुर्जर आदि उपस्थित रहे।———————————————————————————————–  

Related Post

हरियाणा के राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय से शनिवार को हरियाणा खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के चेयरमैन श्री रामनिवास ने शिष्टाचार मुलाकात की और बोर्ड की गतिविधियों की जानकारी दी।
राजकीय महाविद्यालय नारायणगढ़ में प्राचार्य संजीव कुमार की अध्यक्षता में महिला प्रकोष्ठ के तहत करवा चौथ की पूर्व संध्या पर इस उपलक्ष में मेहंदी प्रतियोगिता तथा नेल आर्ट प्रतियोगिता  का आयोजन किया गया।
कैम्पेन आजादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की अध्यक्ष एवं सैशन जज सुश्री नीरजा कुलवंत कलसन के निर्देशानुसार रविवार 24 अक्तूबर को संयुक्त राष्ट्र दिवस के अंतर्गत आज हर्बल पार्क अम्बाला शहर के नजदीक वॉक थॉन (शांति मार्च) का आयोजन किया गया।
One thought on “उपायुक्त विक्रम सिंह ने कहा कि भारतीय संस्कृति में सदैव गुरू (अध्यापक) का एक अहम स्थान रहा है।”
  1. This is the right blog for anyone who wants to find out about this topic. You realize so much its almost hard to argue with you (not that I actually would want?HaHa). You definitely put a new spin on a topic thats been written about for years. Great stuff, just great!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed