• Wed. Dec 1st, 2021

इच्छुक किसान मेरा पानी मेरी विरासत पोर्टल पर 25 जून 2021 तक करवा सकते हैं पंजीकरण।

Byadmin

Jun 22, 2021


-इस वर्ष फसल विविधिकरण के अंतर्गत रखा गया 2.00 लाख एकड़ भूमि का लक्ष्य–इस योजना के तहत किसानों को धान के स्थान पर वैकल्पिक फसलों जैसे कपास, मक्का, दलहन, मूंगफली, तिल, ग्वार, अरण्ड, सब्जियां व फल की बिजाई के लिए मिलेगा प्रोत्साहन–फलस्वरूप प्रति एकड़ 7000 रूपये की प्रोत्साहन राशि दो किस्तों में दी जाएगी सम्बन्धित किसानों को–फसलों का विविधिकरण जमीन की उर्वरा शक्ति बनाने और जल संरक्षण में अति महत्वपूर्ण।
अम्बाला, 22 जून:- जमीन की उर्वरा ताकत में वृद्घि करने तथा जमीन के नीचे जल के संवर्धन और संरक्षण के लिए हरियाणा सरकार द्वारा एक महत्वकांक्षी स्कीम शुरू की गई है। राज्य में गिरते भूजल को बचाने के लिए हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल द्वारा इस वर्ष भी फसल विविधिकरण योजना मेरा पानी मेरी विरासत को लागू रखने की स्वीकृति प्रदान कर दी गई है। मेरा पानी मेरी विरासत योजना गत वर्ष लागू की गई थी तथा लगभग एक लाख एकड़ धान की फसल का वैकल्पिक फसलों द्वारा विविधिकरण किया गया था। इस वर्ष फसल विविधिकरण के अंतर्गत 2.00 लाख एकड़ भूमि का लक्ष्य रखा गया है। यह योजना पुरे राज्य में लागू हो रही है तथा इस योजना के तहत किसानों को धान के स्थान पर वैकल्पिक फसलों (कपास, मक्का, दलहन, मूंगफली, तिल, ग्वार, अरण्ड, सब्जियां व फल) की बिजाई करनी होगी जिसके फलस्वरूप प्रति एकड़ 7000 रूपये की प्रोत्साहन राशि दो किस्तों में दी जाएगी।
उप निदेशक कृषि गिरीश नागपाल ने सम्बधिंत विषय को लेकर बताया कि इस योजना के तहत जिन किसानों ने पिछले वर्ष अपने धान के क्षेत्र को वैकल्पिक फसलों द्वारा विविधिकरण किया था तथा चालू खरीफ सीजन में भी यदि वो उस क्षेत्र में वैकल्पिक फसलों की बिजाई करते हैं तो उन्हें भी प्रोत्साहन राशि प्रदान दी जाएगी। इस योजना के अंतर्गत जो किसान पिछले वर्ष धान बिजित क्षेत्र में चारे की फसल लेते हैं व अपने खेत को खाली रखते हैं उन्हें भी प्रोत्साहन राशि प्रदान की जाएगी। इस योजना के तहत सभी वैकल्पिक फसलों को न्यूनतम समर्थन मूल्य पर सरकार द्वारा खरीदा जाएगा। इस फसल विविधिकरण योजना के अंतर्गत सभी वैकल्पिक फसलों का बीमा भी विभाग द्वारा करवाया जाएगा जिसके प्रीमियम की अदायगी प्रोत्साहन राशि से की जाएगी।
उन्होंने इस योजना को क्रियान्वित करने की जानकारी देते हुए बताया कि फसल विविधिकरण को बढ़ावा देने तथा तकनीकी जानकारी हेतू किसानों को गांव स्तर पर कृषि विभाग के अधिकारियों द्वारा वैकल्पिक फसलें बिजाई करने हेतू पूर्ण जानकारी दी जाएगी। कृषि विभाग व कृषि विज्ञान केन्द्रों द्वारा किसानों को वैकल्पिक फसलों की आधुनिक तकनीक से बिजाई करने व अच्छी पैदावार लेने हेतू प्रदर्शन प्लॉट भी आयोजित किए जाएंगे। इस योजना का लाभ लेने हेतू इच्छुक किसानों को मेरा पानी मेरी विरासत पोर्टल पर 25 जून 2021 तक पंजीकरण करना होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed