• Sat. May 28th, 2022

आपदा में भी परिवार नियोजन की तैयारी–सक्षम राष्ट्र और परिवार की पुरी जिम्मेदारी।

Byadmin

Jun 22, 2021


अम्बाला, 22 जून:-
 भारत सरकार के दिशा निदेशानुसार विश्व जनसंख्या दिवस 11 जलाई 2021 के उपलक्ष मे स्वास्थ्य विभाग अम्बाला द्वारा प्रशासन , एन.जी.ओ., नेहरू युवा केन्द्र, पंचायती राज व  अन्य विभागों के सहयोग से कोरोना माहमारी से सावधानी के साथ-साथ इस वर्ष की थीम ’’आपदा में भी परिवार नियोजन की तैयारी- सक्षम राष्ट्र और परिवार की पुरी जिम्मेदारी, के महत्व पर प्रकाश डाला जा रहा है, जिसकी सफलता के लिए सिविल सर्जन डा0 कुलदीप सिंह ने बताया कि शहरी व ग्रामीण क्षेत्रो विशेषकर झोपड़पटियों मे बढ़ती जनसंख्या के दुष्परिणामों व जनसंख्या नियन्त्रण के स्थाई/अस्थाई साधनों जैसे- बिना चीरा -बिना टांका पुरूष नसबन्दी, नलबन्दी, अंतरा टीका, पी0पी0आई0यु0सी0डी, पी0ए0आई0यु0सी0डी0, कापर-टी, गर्भ निरोधक गोलियां व निरोध आदि साधनों की विस्तृत जानकारी दो पखवाडों के माध्यम से दी जा रही है।
प्राप्त प्रेस विज्ञप्ति के अनुसार पहले पखवाड़े मे दम्पति संपर्क पखवाड़ा 27 जून से 10 जुलाई 2021 तक स्वास्थ्य व आशा कार्यकर्ताओं द्वारा योग्य दम्पतियों का सर्वे कर आवश्यकतानुसार परिवार कल्याण के साधनो की जानकारी व अपनाने हेतू प्रेरित कर पंजीकरण किया जा रहा है। शादी के समय लडक़े की उम्र 18 वर्ष व लडके की उम्र 21 वर्ष, पहला बच्चा शादी के दो साल बाद पैदा करने व पहले और द्वसरे बच्चे के बीच कम से कम 3 साल का अन्तर रखने बारे जानकारी दी जा रही है। दूसरा पखवाड़ा जनसंख्या स्थिरता पखवाड़ा 11 जुलाई से 24 जुलाई 2021 तक मनाया जा रहा है। जिसमें सभी स्वास्थ्य संस्थाओ / हस्पतालों /केन्द्रो मे परिवार कल्याण साधनों की सुविधाएं मुफत प्रदान की जांएगी।
तेजी से बढ़ रही जनता की सभी मूलभूत आवश्यकताएं जैसे- रोटी, पानी ,कपड़ा, मकान, स्वास्थ्य, शिक्षा, रोजगार, परिवहन इत्यादि की पूर्ति के लिए हर साल चिंतन और मंथन करके जनवृद्वि को रोकने हेतू अनेक योजनाए एवं कार्यक्रम बनाए जाते हैं लेकिन अभी तक जनसंख्या वृद्वि के सैलाब को नही रोक पाए हैं, समय की मांग को ध्यान में रखते हुए प्रत्येक नागरिक से अपने परिवार को सीमित रखने की अपील की जाती है ।
उप सिविल सर्जन (प0क0) डॉ0 बलविन्द्र कौर, ने जानकारी देते हुए बताया कि 27 जून से 10 जुलाई तक सभी स्वास्थ्य अधिकारी व कर्मचारी,आशा, आंगनवाडी कार्यकर्ता परिवार कल्याण के स्थाई व अस्थाई साधनों की जानकारी देगें व छोटे परिवार के महत्व पर लोगो को प्रेरित करेगें। इसके उपरान्त 11 जुलाई से 24 जुलाई 2021 तक सभी पात्र दम्पत्ति अपनी इच्छाानुसार सभी सरकारी अस्पताल व सामुदायिक/प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्रो में परिवार कल्याण के स्थाई व अस्थाई साधनों का मुफत लाभ उठा सकते है। प्रत्येक एन0एस0वी0 करवाने वाले व्यक्ति को 2000/- दो हजार रूपये, प्रेरक को 300/- रूपये, महिला नलबन्दी करवाने पर 1400/- रू0 व प्रेरक को 200/- रू0 व प्रसव उपरान्त नलबन्दी करवाने पर 2200 रू0 प्रोत्साहन राशि व प्रेरक को 300/- रुपए राषि दी जा रही है। अत: सभी योग्य दम्पत्यिों से अनुरोध है कि इन सेवाओं का पूरा लाभ उठाएं व अपना परिवार सीमित व खुशहाल बनाए। कोविड के नियमों का पालन करें जैसे कि दो गज की दूरी, मास्क पहने, हाथों को बार-2 सेनेटाईज करना। कोरोना से बचे व दूसरों को बचाएं।

97 thoughts on “आपदा में भी परिवार नियोजन की तैयारी–सक्षम राष्ट्र और परिवार की पुरी जिम्मेदारी।”

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You missed