• Sat. Oct 23rd, 2021

आजादी की लड़ाई में हरियाणा के वीरों की भूमिका और विकास सम्बन्धी विषय पर आधारित प्रदर्शनी दे रही है प्रेरक और अनुकरणीय सीख–जिलावासियों को प्रदर्शनी का अवश्य करना चाहिए अवलोकन:-डी.सी.।

Byadmin

Sep 13, 2021

आजादी की लड़ाई में हरियाणा का महत्व तथा प्रदेश में किये जा रहे विकास कार्यों की तुलनात्मक जानकारी देने के दृष्टिïगत ईंको चौक स्थित विकास विहार के सामुदायिक केन्द्र में लगाई गई है प्रेरक प्रदर्शनी–आगामी 15 सितम्बर तक चलेगी यह प्रदर्शनी–डी.सी. विक्रम सिंह ने किया प्रदर्शनी का उदघाटन।
–आजादी की लड़ाई में हरियाणा के वीरों की भूमिका और विकास सम्बन्धी विषय पर आधारित प्रदर्शनी दे रही है प्रेरक और अनुकरणीय सीख–जिलावासियों को प्रदर्शनी का अवश्य करना चाहिए अवलोकन:-डी.सी.।
अम्बाला, 13 सितम्बर:- 
समूचे भारतवर्ष में आजादी का अमृत महोत्सव पूरी धूम-धाम के साथ मनाया जा रहा है। हरियाणा में भी इस महोत्सव को सुचारू रूप से मनाने के दृष्टिïगत मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने 2 सितम्बर को चंडीगढ़ मुख्यालय से उद्घाटन किया था। इसी के उपलक्ष में सूचना, जन सम्पर्क एवं भाषा विभाग, हरियाणा द्वारा आजादी की लड़ाई में हरियाणा का महत्व सम्बन्धी विषय को लेकर प्रदर्शनी लगाई जा रही है, जो समूचे हरियाणा प्रदेश में लोगों को जागरूक करने का काम करेगी। अम्बाला में यह प्रदर्शनी 13 सितम्बर से 15 सितम्बर तक चलेगी। विकास विहार, ईंको चौक स्थित सामुदायिक भवन में प्रदर्शनी में भ्रमण का समय प्रात: 9:30 बजे से सांय 5 बजे तक का रहेगा।
उपायुक्त विक्रम सिंह ने स्वतंत्रता संग्राम में हरियाणा के योगदान पर आधारित प्रदर्शनी का विकास विहार अम्बाला शहर स्थित सामुदायिक भवन में रिबन काटकर शुभारम्भ किया। इस मौके पर उन्होंने सामुदायिक भवन के प्रांगण में लगी प्रदर्शनी का बारीकी से अवलोकन किया। यहां पहुंचने पर डीआईपीआरओ धर्मवीर सिंह ने उपायुक्त को पुष्प गुच्छ देकर उनका स्वागत किया।
उपायुक्त विक्रम सिंह ने प्रदर्शनी का अवलोकन करने के उपरांत पत्रकारों से बातचीत करते हुए कहा कि आजादी का अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में भारत में यह महोत्सव मनाया जा रहा है तथा हरियाणा सरकार द्वारा इस महोत्सव को बड़ी धूमधाम के साथ प्रदेश के प्रत्येक जिले में इसे आयोजित करके मनाया जा रहा है। प्रदर्शनी के माध्यम से स्वतंत्रता संग्राम में हरियाणा के योगदान पर आधारित प्रदर्शनी के माध्यम से लोगों को आजादी के संघर्ष की गाथाओं, पराक्रम व बलिदान के बारे में जानकारी दी जा रही है, जिससे की लोग इन गाथाओं से प्रेरणा ले सकें। विशेषकर युवा पीढ़ी को हरियाणा के गौरव इतिहास के बारे में रूबरू करवाया जा रहा है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार का यह महत्वपूर्ण कार्यक्रम है जिसमें हमें बढ़-चढकर भाग लेना चाहिए। उन्होंने मीडिया के माध्यम से अपील की कि जिलावासी यहां पहुंचकर इस प्रदर्शनी का अवलोकन करें। यहां पर प्रदर्शनी के माध्यम से जो चीजें दिखाई गई हैं उस बारे अपने बच्चों को भी अवगत करवाएं ताकि वह दूसरों को भी इस बारे प्रेरित कर सकें।
उपायुक्त विक्रम सिंह ने बताया कि यह प्रदर्शनी तीन दिन के लिए आयोजित की गई है। कोई भी आकर इस प्रदर्शनी को देख सकता है। इसमें स्वतंत्रता संग्राम में हरियाणा के वीरों का जो वर्णन किया गया है उसे प्रदर्शित किया गया है। उन्होंने यह भी बताया कि इस प्रदर्शनी में हरियाणा 1966 से पहले कैसा था, खाद्यान, खेल स्टेडियम व कच्ची सडकों के साथ-साथ पुराने रजवाहों, प्रति व्यक्ति वार्षिक आय के साथ-साथ सभी चीजें प्रदर्शित की गई हैं। आज हरियाणा बदलते परिवेश में किस प्रकार आगे आया है उसका चित्रण दिखाया गया है। उन्होने स्कूली बच्चों से भी कहा कि वे भी इस प्रदर्शनी को जरूर देखें और स्कूली बच्चों को इस प्रदर्शनी में लाने के लिए प्रचार-प्रसार के माध्यम से जागरूक किया जाये। इस प्रदर्शनी को देखने से सभी को विशेषकर बच्चों को राष्टï्रभक्ति और समाज सेवा की सीख मिलेगी और यह भी जानकारी मिल सकेगी कि विषम परिस्थितियों में रहते हुए किस प्रकार देश के जाबांजो को हिन्दुस्तान को आजाद करवाया।
डीआईपीआरओ धर्मवीर सिंह व प्रदर्शनी के साथ तैनात कला कार्यपाल जगदीपक सिंह ने उपायुक्त विक्रम सिंह का स्वागत करते हुए प्रदर्शनी की रूपरेखा बारे विस्तार से जानकारी दी। डीआईपीआरओ धर्मवीर सिंह ने बताया कि इस प्रदर्शनी में स्वतंत्रता संग्राम से जुड़े हरियाणा के नायकों से सम्बन्धित लेखों एवं फोटोज के साथ-साथ वर्ष 1966 में हरियाणा के गठन के बाद से अब तक हरियाणा में हुए विकास की तुलनात्मक जानकारी उपलब्ध करवाई जा रही है। उन्होंने यह भी बताया कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल की पहल पर और मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव एवं सूचना, जन सम्पर्क एवं भाषा विभाग के महानिदेशक डा0 अमित अग्रवाल के कुशल मार्गदर्शन में सूचना, जन सम्पर्क एवं भाषा विभाग द्वारा प्रदेश के प्रत्येक जिला में भारत के स्वतंत्रता संग्राम में हरियाणा के योगदान पर आधारित एक प्रदर्शनी का आयोजन किया जा रहा है। इसी कड़ी में आज यहां पर प्रदर्शनी आयोजित की गई है। उन्होंने यह भी बताया कि यह प्रदर्शनी जिला अम्बाला में 13 सितम्बर से 15 सितम्बर तक विकास विहार अम्बाला शहर स्थित सामुदायिक भवन में आयोजित की जा रही है।
उन्होंने बताया कि भारत की आजादी की 75वीं वर्षगांठ के उपलक्ष में देशभर में आजादी का अमृत महोत्सव मनाया जा रहा है। इसी कड़ी में सूचना, जन सम्पर्क एवं भाषा विभाग की प्रदर्शनी शाखा द्वारा भारत के स्वतंत्रता संग्राम में हरियाणा के योगदान पर आधारित एक प्रदर्शनी तैयार की गई है। यहां बता दें कि हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने चंडीगढ़ में गत दो सितम्बर 2021 को स्वतंत्रता संग्राम में हरियाणा के योगदान पर आधारित प्रदर्शनी का उद्घाटन किया था।
इस मौके पर आईपीआरओ धर्मेन्द्र कुमार, आईसीए सुरेन्द्र कुमार, लिपिक हैप्पी, बीपीडब्लयू यादविन्द्र, देवराज, इस्लाम मोहम्मद, लव कुमार, सुरेन्द्र कुमार, आनन्द कुमार, कर्मजीत सिंह, अरूण कुमार, रोहित, मनदीप कौर, तकनीकी सहायक पूर्ण कुमार, जिला सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग के अन्य कर्मी के साथ-साथ मीडियाकर्मी व गणमान्य लोग मौजूद रहे।
बॉक्स:- प्रदर्शनी में वह पत्र भी पूरी तरह आकर्षण का केन्द्र बिन्दू रहा, जिसमें 10 मई 1857 को परेड ग्राउंड में 5वीं और 60वीं रजिमेंटों द्वारा शस्त्र उठाने की घटना का जिक्र किया गया है। यह पत्र तत्काली उपायुक्त अम्बाला द्वारा तत्कालीन मुख्य आयुक्त पंजाब सर जॉन लॅारेंस को लिखा गया था।
बॉक्स:- प्रदर्शनी में क्रांतिकारियों और स्वतंत्रता सेनानियों के चित्र और उनके द्वारा किये गये राष्टï्रभक्ति के कार्यों को पढक़र अभिभूत हुए दर्शक:- प्रदर्शनी में आजादी की लड़ाई के योद्घा एवं प्रखर नेताजी सुभाष चन्द्र बोस की स्टैंडी भी लगी हुई है, जिसमें आजाद हिन्द फौज का झंडा, मोहर, सुभाष चन्द्र बोस के हस्ताक्षर, बैज को दर्शाया गया है जोकि प्रदर्शनी में आकर्षण का केन्द्र बना हुआ है। काफी संख्या में लोगों ने यहां विजिट किया और प्रदर्शनी में दर्शाई गई जानकारी को अंगीकृत किया। कईं लोगों ने इस प्रदर्शनी की सराहना करते हुए कहा कि इस प्रदर्शनी को सभी को देखना चाहिए।
बॉक्स:- नसीबपुर के युद्घ में राजा राव तुलाराम द्वारा दिखाये गये अदम्य साहस और वीरता की कहानी भी प्रदर्शनी में चित्र सहित दर्शाई गई है। जिसमें दिल्ली के कार्यवाहक आयुक्त द्वारा मुख्य आयुक्त लाहौर, जालंधर और अम्बाला को लिखा गया, वह पत्र भी शामिल हैं, जिसमें उन्होंने नसीबपुर में हुई लड़ाई का जिक्र किया है। नसीबपुर के युद्घ में 70 अंग्रेज सैनिक व अधिकारी मारे गये थे। यह युद्घ 16 नवम्बर 1857 को हुआ था। लोगों ने इसको पढऩे में भी काफी रूचि दिखाई।
बॉक्स:- प्रदर्शनी में यह भी दर्शाया गया है कि 1966-67 में केवल एक ही स्टेडियम हुआ करता था लेकिन आज हरियाणा प्रदेश में 429 खेल स्टेडियम हैं। प्रदर्शनी में यह स्टैंडी भी रखी गई है, जिसमें विकास के कार्यों को लेकर तुलनात्मक प्रेरक और ज्ञानवर्धक जानकारी दी गई है।

Related Post

हरियाणा के राज्यपाल श्री बंडारू दत्तात्रेय से शनिवार को हरियाणा खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के चेयरमैन श्री रामनिवास ने शिष्टाचार मुलाकात की और बोर्ड की गतिविधियों की जानकारी दी।
राजकीय महाविद्यालय नारायणगढ़ में प्राचार्य संजीव कुमार की अध्यक्षता में महिला प्रकोष्ठ के तहत करवा चौथ की पूर्व संध्या पर इस उपलक्ष में मेहंदी प्रतियोगिता तथा नेल आर्ट प्रतियोगिता  का आयोजन किया गया।
कैम्पेन आजादी का अमृत महोत्सव के अंतर्गत जिला विधिक सेवा प्राधिकरण की अध्यक्ष एवं सैशन जज सुश्री नीरजा कुलवंत कलसन के निर्देशानुसार रविवार 24 अक्तूबर को संयुक्त राष्ट्र दिवस के अंतर्गत आज हर्बल पार्क अम्बाला शहर के नजदीक वॉक थॉन (शांति मार्च) का आयोजन किया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed