• Sun. Nov 28th, 2021

अमेरिकी कंपनी फाइजर और जर्मन फार्मा कंपनी बायोएनटेक द्वारा विकसित कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल की इजाजत मिल गई है.

Byadmin

Dec 12, 2020

ब्रिटेन के बाद अमेरिका में भी अमेरिकी कंपनी फाइजर और जर्मन फार्मा कंपनी बायोएनटेक द्वारा विकसित कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल की इजाजत मिल गई है. अमेरिका में कोरोना का कहर दुनियाभर में सबसे ज्यादा देखने को मिला है. जॉन हापकिंस यूनिवर्सिटी के आंकड़े के अनुसार अमेरिका 15.5 मिलियन लोग कोरोना की चपेट में आए हैं और यहां इस बीमारी से लगभग 2 लाख 92 हजार लोगों ने जान गंवाई है. 
इसके साथ ही अमेरिकी सरकार ने वैक्सीन बनाने वाली एक अन्य कंपनी मॉर्डना से कोरोना के 100 मिलियन कोरोना वैक्सीन खरीदने का फैसला किया है. 
शुक्रवार को अमेरिकी सरकार की एक सलाहकार समिति ने फाइजर के वैक्सीन की इमरजेंसी इस्तेमाल इजाजत की अनुमति दे दी.  
इस मुद्दे पर अमेरिका में आठ घंटे तक लंबी बहस चली. इस दौरान FDA की सलाहकार समिति के सदस्यों ने 4 के मुकाबले 17 वोटों से वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाजत दी. एक सदस्य मतदान प्रक्रिया में शामिल नहीं हुआ. 
हालांकि फाइजर के वैक्सीन को अभी मिली इजाजत अंतरिम है. कंपनी को अमेरिका में वैक्सीन को नियमित रूप से बेचने के लिए एक बार और आवेदन करनी होगी.  
एक एक्सपर्ट ने कहा कि अभी इस वैक्सीन से जितने लाभ हैं, वो इससे अभी होने वाले संभावित खतरों से ज्यादा हैं, इसलिए वैक्सीन को इस्तेमाल की इजाजत दे दी गई है. 
बता दें कि फाइजर के इस वैक्सीन को इमरजेंसी इस्तेमाल के लिए पहले ही ब्रिटेन, कनाडा, बहरीन और सऊदी अरब में इजाजत मिल चुकी है. भारत में भी वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की इजाजत मांगी गई है. 

4 thoughts on “अमेरिकी कंपनी फाइजर और जर्मन फार्मा कंपनी बायोएनटेक द्वारा विकसित कोरोना वैक्सीन के इस्तेमाल की इजाजत मिल गई है.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You missed