• Thu. Oct 21st, 2021

अंबाला छावनी क्षेत्र में बन रहे शहीद स्मारक का कार्य अतिंम चरण में–प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कर कमलों से उदïघाटन करवाने का रहेगा प्रयास

Byadmin

Jun 14, 2021

अंबाला छावनी क्षेत्र में बन रहे शहीद स्मारक का कार्य अतिंम चरण में–प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कर कमलों से उदïघाटन करवाने का रहेगा प्रयास–प्रदेश, देश और विदेश से कोई भी व्यक्ति दे सकता है 1857 की क्रांति से जुड़ी वस्तुएं–धरोहर के रूप में दिए जाने वाली प्रमाणित वस्तुओं को गैलरी में दर्शाया जायेगा सम्बन्धित व्यक्ति के नाम और पते सहित–अनुकरणीय पहचान और प्रेरणा के क्षेत्र में यह शहीदी स्मारक आने वाले समय में राष्टï्रीय और अंतर्राष्टï्रीय स्तर की उंचाईयों के अध्यायों का करेगा सूत्रपात:-गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज।
अम्बाला, 14 जुन:- 
हरियाणा के गृह एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि अम्बाला छावनी में करोड़ों रूपये की लागत से बन रहा शहीदी स्मारक अतीत में बहादुरों की यादें संजोए रखने का काम करेगा। छावनी क्षेत्र में 1857 की क्रांति की याद में वीर जवानों की बहादुरी एवं शहादत को नमन करने के लिए अम्बाला-दिल्ली राष्ट्रीय राजमार्ग पर अम्बाला छावनी में करीब 22 एकड़ भूमि पर लगभग 300 करोड़ रूपए की लागत से भव्य और विशाल स्मारक का निर्माण कार्य तेजी से किया जा रहा है। यह निर्माण कार्य अतिंम चरण में है। यह स्मारक आने वाले दिनों में आकर्षक पर्यटक स्थल के रूप में उभरेगा। इस शहीद स्मारक का उदघाटन देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कर कमलों से करवाने का प्रयास रहेगा। यहां आने वाले पर्यटक 1857 की क्रांति की यादें स्वयं से सांझा कर सकेंगे और भावी पीढ़ी को राष्टï्रभक्ति की नई सोच और सीख देने का काम कर सकेंगे।
गृह, शहरी स्थानीय निकाय एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने प्रदेश के लोगों से अपील की कि अगर किसी भी व्यक्ति के पास उनके पूर्वजों की धरोहर के रूप में 1857 की क्रांति से संबंधित कोई भी वस्तु जैसे राइफल, बंदूक, पिस्टल, बंदूक की गोली(मस्कट कार्टरिज), वर्दी, तलवार, चाकू, बैज, मेडल, दस्तावेज, 1857 की क्रांति पर जारी हुई पोस्टल स्टाम्प (डाक टिकट), पत्र या पत्र व्यवहार, मूल रूप में कोई समाचार पत्र, उस दौर की पेंटिंग, कोई मानचित्र या अन्य कोई भी वस्तु जो 1857 की क्रांति से सम्बन्धित हो, को हरियाणा सरकार को धरोहर के लिए दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि अगर दी गई वस्तु, दस्तावेज या अन्य चीजें प्रमाणिक पाए जाते हैं तो उसे दिए जाने वाले व्यक्ति के नाम व पते सहित गैलरी में दर्शाया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस विषय को लेकर प्रदेश या फिर देश-विदेश का कोई भी व्यक्ति सम्बन्धित चीजें दे सकता है।
विज ने यह भी कहा कि आमजन द्वारा दिए जाने वाले इस सहयोग के लिए सरकार आभारी रहेगी और पूरे सम्मान के साथ दी गई निधि को अंबाला में बन रहे शहीद स्मारक में बनाई जाने वाली गैलरी में संजोकर रखा जाएगा। यह शहीद स्मारक जहां एक ओर क्रांतिकारियों द्वारा देश के लिए दिए गये बलिदान की यादें ताजा करवाएगा वहीं दूसरी ओर एक बेहतरीन पर्यटक स्थल के रूप में भी उभरेगा। यहां विजिट करने वाले लोग विशेषकर देश के भावी कर्णधार अतीत की यादों से राष्टï्र प्रेम की नई सीख ले सकेंगे। आने वाले समय में अनुकरणीय पहचान îऔर प्रेरणा के प्रतिबिंबित क्षेत्र में यह शहीदी स्मारक राष्टï्रीय और अंतर्राष्टï्रीय स्तर पर नए अध्यायों का सूत्रपात करेगा।
  उल्लेखनीय है कि शहीदी स्मारक की भव्यता एवं सुंदरता के लिए इस परियोजना का गृह, शहरी स्थानीय निकाय एवं स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज समय-समय पर यहां का दौरा करते हुए परियोजना से जुड़े विषय को लेकर आवश्यक दिशा-निर्देश भी देते हैं। यह प्रोजैक्ट गृहमंत्री अनिल विज के ड्रीम प्रोजैक्टों में से एक है, इसलिए मंत्री विज पूरी रूचि के साथ शहीद स्मारक के कार्य को पूरा करवाने में जुटे हैं। समय-समय पर चल रहे कार्यों की समीक्षा भी करते रहते हैं। उनके प्रयासों और मार्गदर्शन से यहां बेहतर तरीके से कार्य जारी है।

33 thoughts on “अंबाला छावनी क्षेत्र में बन रहे शहीद स्मारक का कार्य अतिंम चरण में–प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कर कमलों से उदïघाटन करवाने का रहेगा प्रयास”
  1. The next time I read a blog, I hope that it doesnt disappoint me as much as this one. I mean, I know it was my choice to read, but I actually thought youd have something interesting to say. All I hear is a bunch of whining about something that you could fix if you werent too busy looking for attention.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *